Tuesday, November 12, 2019 09:31 AM

अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में डा. मनोज हिमाचल के प्रभारी

नाहन - जिला सिरमौर के डा. मनोज शर्मा विश्व हिंदी परिषद के अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में 14 सितंबर हिंदी दिवस को देश की राजधानी दिल्ली में हिमाचल प्रदेश के प्रभारी होंगे। 14 सितंबर को हिंदी दिवस के मौके पर दिल्ली में दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है,। इसमें भारत के सभी राज्यों के अलावा अमरीका, रूस, जापान इत्यादि देशों से साहित्यकार, प्रोफेसर, शोधार्थी, स्कॉलर व छात्र राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के परिदृश्य और उनके महान चिंतन पर अपने विचार और शोध पत्र को प्रस्तुत करेंगे। इस कड़ी में हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर के क्वागधार के हिंदी के सोलन इग्नू में तैनात प्रोफेसर डा. मनोज शर्मा हिमाचल प्रदेश से प्रभारी होंगे। वह सम्मेलन में हिमाचल और ग्रामीण परिपेक्ष्य में महात्मा गांधी के चिंतन और उसके बाद हुए क्रांतिकारी विकास पर शोध पत्र प्रस्तुत करेंगे। डा. मनोज शर्मा ने बताया कि  महात्मा गांधी का बहुआयामी परिदृश्य, जिसमें गांव, महिला उत्थान, रोजगार, पंचायती राज संस्था को सशक्त करने का रहा है, में बेहतरीन कार्य अब देश में हो रहे हैं।

मिशन अंटार्कटिका-36 के मेंबर इंद्रपाल पाएंगे सम्मान

पालमपुर - 2016-17 में मिशन अंटार्कटिका-36 का हिस्सा रहे पालमपुर के इंद्रपाल को सम्मानित किया जाएगा। मंगलवार को गोवा के समुद्र विज्ञान अनुसंधान संस्थान में आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रम में टीम के अन्य सदस्यों के साथ इंद्रपाल को प्रमाण पत्र व स्मृति चिन्ह प्रदान किया जाएगा। पालमपुर के करीब हंगलोह गांव के इंद्रपाल 2016-17 में अंटार्कटिका गए 24 सदस्यीय दल में एकमात्र हिमाचली थे। टीम के अन्य 23 प्रतिभागी केंद्रीय विभागों से जुड़े हुए थे, जबकि इंद्रपाल टीम में एकमात्र सिविलियन थे। केंद्र सरकार की मिनिस्ट्री ऑफ  अर्थ साइंस ने देश भर से 24 सदस्यीय दल का चयन किया था, जिसने अंटार्कटिका में जाकर 14 माह तक विभिन्न पहलुओं पर काम किया। सेना में अपनी सेवा के दौरान इंद्रपाल मुख्य तौर पर संचार एवं विद्युत तकनीक से जुड़े थे। इस दल में भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर और जियोलॉजिकल विभाग के वैज्ञानिक भी शामिल थे। दक्षिणी ध्रुव में आयोजित किए गए स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान भारत, रूस और चीन ने मिलकर इंद्रपाल को पोलरमैन के खिताब से नवाजा था।