Sunday, July 05, 2020 07:20 AM

अध्यापकों को मिले कोरोना वॉरियर्स का दर्जा

प्रदेश पदोन्नत स्कूल प्रवक्ता संघ ने सरकार से उठाई मांग

हमीरपुर -प्रदेश पदोन्नत स्कूल प्रवक्ता संघ के प्रदेशाध्यक्ष यशवीर जंवाल, अध्यक्ष कोर कमेटी केवल ठाकुर, एवं प्रदेश महासचिव कमल किशोर शर्मा ने बयान जारी करते हुए कहा कि प्रदेश में कोविड-19 से संबंधित ड्यूटी देने वाले सभी अध्यापकों को कोरोना वॉरियर का दर्जा दिया जाए। संघ के नेताओं ने इस संदर्भ में बयान जारी करते हुए कहा कि उनका  संघ पहले भी इस संदर्भ में मांग माननीय मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री हिमाचल प्रदेश से कर चुका है।  संघ के अनुसार इस महामारी दौर में सरकार एवं प्रशासन द्वारा सौंपे गए हर कार्य को अध्यापक समाज बखूबी निभा रहा है। प्रदेश के विभिन्न प्रवेश द्वारों पर सरकारी स्कूलों के अध्यापक पुलिस विभाग के साथ नाकों पर प्रशासन के साथ सहयोग कर रहे हैं।  यहां ध्यान देने योग्य बात है कि इस दिन एवं रात ड्यूटी के लिए अध्यापकों को न कोई प्रशिक्षण दिया गया है न ही किसी भी प्रकार के सुरक्षा उपकरण जैसे फेस मास्क, सेनेटाइजर , पीपीटी उपलब्ध करवाए गए हैं।  यही नहीं आपदा की इस घड़ी में प्रदेश के सभी अध्यापक कोविड-19 फंड में अपना वेतन  कटवा कर इस पुनीत कार्य में उदारतापूर्वक सहयोग भी दे रहे हैं, लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण इनमें से बहुत से अध्यापक न तो पुरानी लाभकारी पेंशन स्कीम के हकदार हैं और न ही उन्हें अब तक कोरोना वॉरियर का दर्जा सरकार द्वारा प्रदान किया गया है। संघ के नेताओं कुल्लू जिला प्रधान मनोज, बिलासपुर से प्रवीण चंदेल, कांगड़ा से प्रदीप धीमान, ऊना से विवेक दत्ता, सोलन से नरेश, मंडी से दर्शन सिंह, संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष संदीप ढटवाल, प्रदेश मीडिया प्रभारी अनूप शर्मा, प्रदेश कोषाध्यक्ष मदन लाल शर्मा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष जिला हमीरपुर रविदास, महासचिव विक्रम वर्मा, कोषाध्यक्ष अजय नंदा, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य प्रीतम कौशल, अनिल धीमान, धीरज कतना, ओम प्रकाश, अरविंद जगोता का कहना है कि प्रदेश सरकार ऐसी ड्यूटी पर तैनात अध्यापकों को कोरोना वारियर का दर्जा प्रदान करे।