Monday, April 06, 2020 06:41 PM

अफवाहें…चायपत्ती उबाल कर पियो, नहीं होगा कोरोना

भोरंज-कोरोना वायरस के चलते जहां लोग एक-दूसरे को जागरूक करते नजर आए व कोरोना वायरस के प्रति जानकारी हासिल करते नजर आए। वहीं, क्षेत्र में अफवाहों व अंधविश्वासों का दौर भी जारी रहा। जनता कर्फ्यू के दो दिन पूर्व रात के समय जहां पूरे प्रदेश में लोग एक-दूसरे को फोन पर यह जानकारी देते रहे कि चायपत्ती को पानी मे उबाल कर पीने से कोरोना वायरस का असर नहीं होगा। लोगों का कहना है कि चायपत्ती कापानी पीने के लिए प्रदेश के एक देवता के गुर ने कहा है और कर्फ्यू वाले दिन भी अफवाहों व अंधविश्वासों का दौर जारी रहा। लोगों का खासकर महिलाओं में यह अफवाह फैली रही कि सुबह के समय महिलाओं को जिनका एक ही बेटा है, उनके लिए यह समय बहुत खराब है अगर महिलाएं जिस तरफ से सूर्य निकलता है, उस तरफ सरसों के तेल का दीपक में चीनी डालकर जलाएंगी, तो उनके लिए ये शुभ होगा और बेटे की उम्र बढ़ेगी। इस प्रकार प्रदेश भर में यह अंधविश्वास फैला हुआ है और महिलाएं इन उपायों को करने में जुटी हैं। गौरतलब है कि अंधविश्वास का दौर इस युग में भी जारी है जहां आज भारत के लोग चांद पर पहुंच गए हैं और अधिकतर लोग शिक्षित हैं, फिर भी लोग इस प्रकार के अंधविश्वास के झांसे में आ रहे हैं। लोग कोरोना के प्रति जागरूक नहीं हो रहे हैं। हालांकि कर्फ्यू के दिन बाजार खाली रहे, परंतु अफवाहों और अंधविश्वासों का दौर जारी रहा। हालांकि इससे बचने के लिए प्रशासन हिदायत दे रहा है कि कोरोना से डरना नहीं, बल्कि जागरूकता के रास्ते चलते हुए लड़ना है। ऐसे में भी लोग मास्क नहीं पहने, केवल रोग से ग्रस्त वाले ही मास्क पहने, जबकि अन्य लोग जागरूक हों व अन्य लोगों को भी जागरूक भी करें, कहा कि भीड़ वाले स्थानों में दूर रहें, खांसी व छींकते वक्त रूमाल रखें आदि अनेकों बातों को लेकर जागरूक रहें, तो पूरा बचाव सभी का होगा, सभी लोग हाथों को बार-बार धोने व सेनिटाइजर का इस्तेमाल करें, अपने घरों में ही रहें सुरक्षित रहें और आवश्यकता पड़ने पर ही कार्यालयों में जाएं।