Wednesday, December 11, 2019 05:41 PM

अब जनसंख्या नियंत्रण पर आएगा विधेयक!

सोलन में पूर्व केंद्रीय मंत्री शांता कुमार ने दिए संकेत, गुपचुप तैयारी कर रहा केंद्र

सोलन - केंद्र सरकार कश्मीर में धारा 370 हटाने के बाद अब क्या अंदर ही अंदर जनसंख्या नियंत्रण पर विधेयक लाने की तैयारी में  जुट गई है? बीते जुलाई माह में राज्य सभा में आरएसएस विचारधारा से जुड़े मनोनित सांसद राकेश सिन्हा द्वारा इस संदर्भ में लाए गए व्यक्तिगत बिल के बाद सोमवार को सोलन में पूर्व केंद्रीय मंत्री शांता कुमार ने इस आशय के संकेत दिए हैं। शांता कुमार ने कहा कि 370 धारा के कश्मीर से हटने के बाद देश में कॉमन सिविल कोड, राम मंदिर व जनसंख्या नियंत्रण पर प्राथमिकताओं के आधार पर कानून बनेंगे। उन्होंने कहा कि बढ़ती जनसंख्या की भयावता को लेकर वह स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिल चुके हैं। वह सोलन में सोमवार को बढ़ती जनसंख्या-घटते संसाधन पर आयोजित एक संगोष्ठी पर मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित कर रहे थे। इस संगोष्ठी में हालांकि प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार, सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री डा. राजीव सहजल, पूर्व सांसद प्रो. वीरेंद्र कश्यप, संयोजक डा. राजेश कश्यप इत्यादि कई अन्य नेता भी शामिल हुए, किंतु इस कार्यक्रम को आयोजित करने के प्रमुख सूत्रधार पूर्व परिवहन मंत्री व शांता कुमार के खास महेंद्र नाथ सोफत को बताया जा रहा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री शांता कुमार ने देश में बढ़ती जनसंख्या को विकास के रास्ते का सबसे बड़ा दानव बताया है। उन्होंने कहा कि देश में प्रतिदिन 50 हजार बच्चे जन्म लेते हैं तथा एक साल में एक करोड़ 80 लाख की आबादी भारत में बढ़ जाती है। बढ़ती जनसंख्या ही देश के करोड़ों युवाओं को बेरोजगार बना रही है तथा पिछले दिनों उत्तर प्रदेश में 1400 चपड़ासियों के पदों के लिए उच्च शिक्षित 25 लाख बेरोजगारों ने अपने आवेदन पत्र भरे। देश में प्रत्येक वर्ष 80 लाख नए बेरोजगार पैदा हो जाते हैं तथा रोजगार मात्र 40 हजार युवाओं को ही मिल पाता है। पूर्व केंद्रीय मंत्री हालांकि बीते पांच वर्षों से इस विषय पर कार्य कर रहे हैं, किंतु बीते माह राज्यसभा में भाजपा सांसद द्वारा उठाए गए इस मुद्दे व उस पर सख्त कानून बनाने की मांग को सोमवार को शांता कुमार ने पुष्ट कर दिया है। इस मामले में देश में इक्का-दुक्का जगहों से सार्वजनिक आवाज ही उठती रही है, किंतु सोलन से बढ़ती जनसंख्या पर कानून बनाने की पैरवी करके शांता कुमार ने केंद्र सरकार की भविष्य की परिकल्पना  पर परोक्ष मुहर लगा दी है। उन्होंने केंद्र सरकार के प्रस्तावित एजेंडे जैसे कॉमन सिविल कोड, राम मंदिर का निर्माण करने की बात को सार्वजनिक पटल पर रखकर देश वासियों के लिए ंनई बहस भी छेड़ दी है। गौर हो कि पूर्व केंद्रीय मंत्री शांता कुमार सोलन में करीब बीस वर्षों बाद आए थे। सोलन की राजनीति में उनके खास समर्थक पूर्व मंत्री महेंद्र नाथ सोफत की जब टिकट काट कर उन्हें हाशिए पर धकेल दिया गया था, तब से वह सोलन में कभी सार्वजनिक मंच से भाषण देते नजर नहीं आए। सोमवार को उन्होंने अपने भाषण में जिक्र करते हुए कहा कि सोलन में अपने पुराने मित्रों को देखकर उनकी आंखे सजल हैं।

पुलिस भर्ती में गड़बड़ी के पीछे भी बेरोजगारी : शांता कुमार ने हिमाचल में पुलिस भर्ती में रैकेट के हुए भंडाफोड़ की भी चर्चा करते हुए कहा कि बढ़ती जनसंख्या के कारण युवा परेशान हो रहा है। यह दबाव भी एक किस्म से बेरोजगारी का ही है।