Friday, September 20, 2019 12:45 AM

अब तक क्यों नहीं खर्च पाए रूसा बजट

शिमला - केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय के बाद अब प्रदेश सरकार भी एचपीयू व क्लस्टर विश्वविद्यालय से जवाब तलब करेगी। साढ़े चार वर्षों में रूसा की पहली ग्रांट ही सही रूप से खर्च न करने और यूसी में नियमों की अवहेलना करने पर दोनों विवि के प्रशासन से सरकार  जवाब मांगेगी। इस बाबत शिक्षा मंत्री ने शिक्षा प्रधान सचिव को रूसा की स्टेटस रिपोर्ट मांगी है। बता दें कि भारत सरकार ने दोनों विश्वविद्यालय द्वारा फेस-वन का यूटीलाइजेशन सर्टिफिकेट पर कई आपत्तियां जताई हैं। सूत्रों की मानें, तो एचपीयू व क्लस्टर विश्वविद्यालय ने भारत सरकार के निर्देशों के बाद रूसा के तहत पुराने बजट का यूसी तो भेज दिया, लेकिन उसमें से भी करोड़ो रुपए के बजट को एचपीयू धरातल पर खर्च नहीं कर पाया है। बताया जा रहा है कि अकेले एचपीयू का तीन से चार करोड़ रुपए का बजट यूसी में खर्च राशि में बताया गया है, लेकिन उसे एचपीयू खर्च नहीं कर पाया है। वहीं 15 अगस्त को ‘दिव्य हिमाचल’ के अंक में छपी खबर के बाद शिक्षा मंत्री ने इस मामले पर शिक्षा प्रधान सचिव को रूसा का स्टेटस रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही चार साल में रूसा की पहली ग्रांट खर्च क्यों नहीं की गई, इस बारे में जवाब मांगा है।