Tuesday, September 17, 2019 02:21 PM

अब नशेड़ी चालकों की खैर नहीं

गगरेट। बिना तिरपाल का प्रयोग किए क्रशर स्टाक लेकर जाने वाले टिप्पर अब नपेंगे। लापरवाही बरत कर दोपहिया वाहन चालकों के लिए मुसीबत पैदा करने वाले ऐसे टिप्पर चालकों के अब यातायात पुलिस गगरेट चालान करेगी। मंगलवार को लोक निर्माण विभाग के गगरेट स्थित विश्राम गृह में हुई रोड सेफ्टी क्लब की बैठक में यह निर्णय लिया गया है। इसके साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग विंग से आशादेवी-मुबारकपुर सड़क मार्ग पर चिन्हित ब्लैक स्पाट पर क्रैश बैरियर लगाने का बार-बार आग्रह करने पर भी राष्ट्रीय राजमार्ग विंग द्वारा इसका संज्ञान न लेने पर क्लब सदस्यों ने खासी नाराजगी व्यक्त की। क्लब के सदस्यों ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग विंग की लापरवाही से ही इस सड़क मार्ग पर दुर्घटनाओं का ग्राफ बढ़ा है और अब राष्ट्रीय राजमार्ग विंग के लापरवाह अधिकारियों की शिकायत उपायुक्त से की जाएगी। बैठक की अध्यक्षता करते हुए एसएचओ हरनाम सिंह ने कहा कि यातायात नियमों की अवहेलना एक चिंतनीय विषय है। देश में हर साल करीब साढ़े पांच लाख सड़क दुर्घटनाएं होती हैं और इनमें हर साल मरने वालों का आंकड़ा करीब डेढ़ लाख है। हैरत की बात है कि इन सड़क दुर्घटनाओं में सबसे अधिक मौत का शिकार होने वाले पैंतीस साल से कम उम्र के नौजवान ही हैं। उन्होंने कहा कि अब नए यातायात एक्ट में यातायात नियमों की अवहेलना करने पर जुर्माना राशि भी बढ़ा दी गई है और कुछ मामलों में तो सजा का प्रावधान भी किया गया है। हिमाचल प्रदेश में भी सरकार ने एक माह के बाद नए यातायात एक्ट को लागू करने का निर्णय लिया है इसलिए लोग अनावश्यक चालान से बचने के लिए यातायात नियमों का अनुपालन करें। उन्होंने कहा कि शराब पीकर वाहन चलाने पर अब पच्चीस हजार रुपए जुर्माना होगा और जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है। इसके अतिरिक्त नाबालिग वाहन चालकों के पकड़े जाने पर उनके अभिभावकों को भी अब जेल हो सकती है। उन्होंने कहा कि यातायात नियमों का अनुपालन पुलिस के चालान से बचने के लिए नहीं बल्कि अपनी बेशकीमती जिंदगी को बचाने के लिए करें।