Monday, July 22, 2019 12:58 PM

अवैध खनन…समिति बनाओ और 15 दिन में रिपोर्ट दो

 ऊना—विधानसभा प्राक्कलन समिति ने जिला ऊना में चल रहे विभिन्न विकास कार्यों की समीक्षा की। इसकी अध्यक्षता समिति के सभापति रमेश चंद धवाला ने की। बैठक में समिति के सदस्य व विधायक जगत सिंह नेगी, राजेंद्र राणा, नरेंद्र ठाकुर, आशीष बुटेल, सुरेंद्र शौरी, राजेश ठाकुर व सतपाल सिंह रायजादा ने भाग लिया। इस अवसर पर रमेश धवाला ने कहा कि अधिकारी अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति की मदद करने की दिशा में काम करें। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार को किसी भी सूरत में सहन नहीं किया जाएगा। अधिकारी अगर अच्छा काम करते हैं, तो सरकार की योजनाओं का लाभ पात्र व्यक्तियों तक पहुंचता है। बैठक में समिति के अध्यक्ष रमेश धवाला ने जिला ऊना में अवैध खनन के मामलों का कड़ा संज्ञान लिया। उन्होंने जिला में अवैध खनन के मामलों पर प्रशासन की कार्रवाई की जानकारी ली और उपायुक्त की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय एक समिति बनाने के निर्देश दिए और 15 दिन में रिपोर्ट भेजने को कहा। रमेश धवाला ने कहा कि जेसीबी के माध्यम से खनन गैर कानूनी है। ऐसे में पुलिस व अन्य विभाग दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें। इसके बाद समिति ने जिला ऊना में नशे के खिलाफ कार्रवाई की जानकारी ली। पुलिस अधीक्षक दिवाकर शर्मा ने समिति को बताया कि पिछले वर्ष एनडीपीएस एक्ट के अंतर्गत 106 मामले दर्ज किए गए हैं। ज्यादातर नशा पड़ोसी राज्य पंजाब से आता है और गढ़शंकर में नशा माफिया काफी सक्रिय है, जिसके बारे में पंजाब पुलिस के अधिकारियों को समय-समय पर जानकारी दी जाती है। इस पर अध्यक्ष रमेश धवाला ने नशे के दुष्प्रभावों के प्रति लोगों को जागरूक करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग नशीले पदार्थों की सप्लाई करने वाले बड़े तस्करों के खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई अमल में लाए। प्राक्कलन समिति ने आईपीएच विभाग की योजनाओं की भी जानकारी ली। बैठक में बताया गया कि जिला में 3226 हैंडपंप स्थापित किए गए हैं, जिनमें से 332 खराब हैं। इसके अलावा जिला में 210 ट्यूबवैल भी लगाए गए हैं। समिति के अध्यक्ष रमेश धवाला ने खराब पड़े हैंडपंप की मरम्मत करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि टेंडर प्रक्रिया में पारदर्शिता लाई जानी चाहिए और पेयजल एवं सिंचाई योजनाओें के रखरखाव के बढ़ते व्यय पर निगरानी रखी जाए। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा सीधे पंचायतों को उदारता से धनराशि उपलब्ध करवाई जाती है परंतु चिंता का विषय है कि पंचायतों में करोड़ों रुपए के काम लंबित पड़े हैं, जिन्हें विकास कार्यों पर व्यय किया जाना चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह फील्ड में जाकर विकास कार्यों का स्वयं निरीक्षण करें। ताकि विकास कार्यों को सही मायने में धरातल पर उतारा जा सके। इससे पहले उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने प्राक्कलन समिति का स्वागत किया और समिति के सदस्यों को शॉल, टॉपी और स्मृति चिन्ह भेंट करके सम्मानित किया। बैठक में पुलिस अधीक्षक दिवाकर शर्मा, एडीसी अरिंदम चौधरी, एसई लोक निर्माण डीएस देहल, एसई आईपीएच शाम कुमार शर्मा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया।

सड़क किनारे बनें नालियां

रमेश धवाला ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को सड़क किनारे नालियां बनाने को कहा ताकि बारिश के कारण सड़कें खराब न हों। उन्होंने विभाग को निर्देश दिए कि सड़कों पर चिन्हित ब्लैकस्पॉट को दुरुस्त किया जाए, ताकि बढ़ती दुर्घटनाओं पर अंकुश लग सके। उन्होंने कहा कि पीडब्ल्यूडी विभाग अपने काम में गुणवत्ता भी सुनिश्चित करे और काम न करने वाले ठेकेदारों के टेंडर रद्द किए जाएं और उनसे जुर्माना भी वसूल किया जाए।