Wednesday, September 30, 2020 05:45 AM

अश्लील जुमलों से भगाईं आसुरी शक्तियां

बंजार के थाटीबीड़ में ग्रामीणों ने धूमधाम से मनाई फागली; मंढियालों ने की भविष्यवाणी, देवता वासूकी नाग-करथा नाग- खोडू देवता के सम्मान में होता है आयोजन

बंजार -कुल्लू जिला समेत मंडी, सराज में फागली उत्सव पर धार्मिक व वैदिक कार्यक्रमों का आयोजन माघ की संक्रांति से श्रीगणेश किया जाता है और इसी कड़ी में उपमंडल बंजार की पल्दी क्षेत्र में फागली पर्व का आगाज हो गया है। बुधवार को बंजार की थाटीबीड़ और गोपालपुर पंचायत का केंद्र थाटीबीड़ में पल्दी फागली का आगाज बड़ी धूमधाम से किया गया। यह पर्व देवता वासूकी नाग और करथानाग, खोडू देवता तथा अन्य देवताओं के लिए समर्पित है। इस पर्व को मनाने के लिए मकर संक्रांति की शाम को देवता की कोठी में रात भर आयोजन होता रहा और दूसरे दिन बुधवार को वाद्य यंत्रों की थाप पर विष्णु स्वरूप माने जाने वाले मंढियालें नाचे। वहीं, थाटीबीड़ में एक विशेष स्थान पर आकर देवता संग नाचे अश्लील जुमलों के साथ क्षेत्र से आसुरी शक्तियों को भगाया गया। यह पर्व मंकर संक्रांति के प्रथम दिन से ही फागली उत्सव का आगाज हो गया है। इस पर्व को मनाने के लिए विशेष लोग मुंह में मखौटे लगा तथा शरूली नामक घास के कपड़े पहन कर इस पुरातन पंरपरा का निर्वाण हर साल बड़ी धूमधाम से माघ मास को मनाया जा रहा है। उपमंडल के थाटीबीड़ में दो दिन तक चलने वाला अनोखा पर्व मनाया गया। देवताओं के कारदार तुलसी राम,  कारकून दिवान सिंह,, धामी परस राम, भंडारी नोक सिंह पालसरा, हुकम राम आदि का  कहना है कि हर साल यहां पर इस वीहढ़ को पकड़ने के लिए सैकड़ों में  लोग आते हैं  और सैकड़ों सालों से चली आ रही इस पंरपरा का निर्वाहन किया गया।