Tuesday, February 18, 2020 07:17 PM

असली साहित्यकार

पूरन सरमा

स्वतंत्र लेखक

यह विषय इतना सामयिक हो गया है कि निरंतर विवाद के बावजूद हल होने का नाम ही नहीं लेता। साहित्यकार और असली साहित्यकार का फर्क समझ में तो आता है। परंतु उसकी मान्यता गले नहीं उतर पाती। आदमी जब साहित्यकार हो जाता है तब वह आम आदमी से पर्याप्त रूप से भिन्नताएं ग्रहण करता है और यदि असली साहित्यकार बन जाए तो हद से ज्यादा विशिष्ट बन जाता है। साहित्यकार और असली साहित्यकार के भेद को समझना आज की स्थितियों में नितांत जरूरी है। वरना कई जगह हमें दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। वह इसलिए कि जैसे पत्रकार को साहित्यकार मान लिया जाए या कि साहित्यकार को असली साहित्यकार मान लिया जाए और असली साहित्यकार को घसियारा। आजकल पत्रकार और साहित्यकार में तो ज्यादा फर्क नहीं है, वहां फकत दृष्टि भेद है, क्योंकि पत्रकार साहित्यकार बन रहे हैं और साहित्यकारों का रुझान निरंतर पत्रकारिता की ओर हो रहा है। इसलिए इन दोनों के बीच इतनी घपलेबाजी हो गई है कि पत्रकार और लेखक दोनों को साहित्यकार मानना ही हित में है। पत्रकारों के हाथ में अखबार है। अतः वे खूब लिखते हैं-लिखने वाला लेखक होता है और लेखक साहित्यकार होता ही होता है, इसमें दोराय कहीं नहीं है। लेखक, पत्रकार-संपादक की कृपा पर आजकल बहुत निर्भर हो गया है। अतः उसका साहित्यकार बनना उस पर ही है। चूंकि लेखक भी छपता है। अतः वह भी साहित्य को रचने वाला है, इसी आधार पर उसके भी साहित्यकार होने में शक नहीं है, लेकिन हमें जानना है उस जीव के बारे में जो असली साहित्यकार है। असली साहित्यकार की स्थिति आजकल वैसी ही है-जैसा कि असली घी की। वनस्पति घी के चलन व मिलावटियों की साजिशों के पीछे जैसे देसी घी अपनी मूल पहचान खो बैठा है, उसी तरह यह असली साहित्यकार भी बहुत ही उपेक्षित रह गया है। असली साहित्यकार की अव्वल पहचान यह है कि वह साल में एकआध बार लिखता है और फिर लंबी चुप्पी साध जाता है। वह ज्यादा छपने वाले लेखकों की आलोचना करता है तो बचे समय में त्योरियां चढ़ाए जबरन की एक और गंभीर मुद्रा चिंतन प्रधान शिल्प में अपने कमजोर चेहरे पर लगाए रखता है। असली साहित्यकार लिखता कम और भाषण ज्यादा देता है। यदि उसके मौखिक वचनों को टेप किया जाए तो प्रतिदिन एक पाकेट बुक तैयार की जा सकती है। यह जीव साहित्य को मौखिक रूप से ज्यादा नष्ट करता है। साहित्य का यह भाषण इतना ऊल-जलूल व जटिल होता है कि पत्रकार और साहित्यकार आम तौर पर ऐसे समय में उबासियां लेते हैं तथा उससे पिंड छुड़ाने को छटपटाते हैं।