Wednesday, December 11, 2019 05:27 PM

आईआईटी मंडी का ही पाठ पढ़ेगा ऊना

मंडी - आईआईटी मंडी के पाठ्यक्रम को आईआईआईटी ऊना भी अपनाएगा। यही नहीं, दोनों संस्थान अकादमिक गतिविधियों के साथ-साथ साझा अनुसंधान कार्यक्रमों में भी मिलकर काम करेंगे। दोनों संस्थानों के छात्र शोध कार्य के लिए एक-दूसरे संस्थान जा सकेंगे। इसके लिए भारतीय प्रोद्योगिक संस्थान मंडी ने शोध एवं शिक्षा कार्यक्रमों को बढ़ावा देने के लिए आईआईआईटी (भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान) ऊना से सहयोग करार किया है। आईआईटी मंडी के प्रैक्टिकम कंपोनेंट के ज्ञान और विशेषज्ञता को आईआईआईटी ऊना के शिक्षकों को हस्तांतरित करने के लिए हाल में कई प्रयास किए गए हैं। आईआईटी मंडी के निदेशक प्रोफेसर टिमोथी ए गोंजाल्विस और आईआईटी मंडी के कम्प्यूटिंग एवं इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग स्कूल के एसोसिएट प्रो. डा. श्रीकांत श्रीनिवासन ने इस संदर्भ में हाल ही में ऊना में आईआईआईटी ऊना के बीटेक के विद्यार्थियों के आने वाले बैच के लिए ‘एक्सप्लोरेशन इंजीनियरिंग’ पर विशेष प्रशिक्षण सत्र का संचालन किया। शाध की संयुक्त गतिविधियों का संचालन करने के लिए प्रो. गोंजाल्विस ने 29 मार्च को आईआईआईटी ऊना के निदेशक प्रो. सेल्वाकुमार के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए थे। इस समझौता ज्ञापन के तहत आईआईटी मंडी ने पाठ्यक्रम के व्यावहारिक अंशों पर आधारित पाठ्यक्रम विकसित करने में आईआईआईटी ऊना की सहायता करने की सहमति दी थी। सहयोग करार पर प्रो. टिमोथी ए गोंजाल्विस, निदेशक आईआईआईटी मंडी ने बताया कि आईआईटी मंडी सदैव अपने कैंपस और विद्यार्थियों की सीमा से बढ़ कर पूरी दुनिया के लिए योगदान देने में विश्वास रखता है। आईआईआईटी ऊना से यह करार इसकी एक मिसाल है। हमारे पूर्व विद्यार्थी और पीएचडी डिग्रीधारक भी यह दूरदृष्टि अन्य संस्थानों तक ले रहे हैं और भारत और दुनिया के अन्य देशों में उनके काम की जगह हमारे संस्थान के इन्नोवेटिव तरीके लागू कर रहे हैं। आईआईआईटी ऊना के 24 शिक्षकों के साथ प्रोफेसर एस सेल्वाकुमार ने इसके पहले 25 और 26 मई को डिजाइन प्रैक्टिकम ओपन हाउस में भाग लेने के लिए आईआईटी मंडी का दौरा किया था। इसमें सिलेबस आईआईटी पाठ्यक्रम में शामिल करने की योजना के साथ आए आईआईआईटी ऊना के शिक्षकों के लिए रिवर्स इंजीनियरिंग कोर्स, डिजाइन प्रैक्टिकम, इंटरेक्टिव सोशियोटेक्निकल प्रैक्टिकम और अंतिम वर्ष की मुख्य प्रौद्योगिकी परियोजना समेत आईआईटी मंडी के प्रैक्टिकम-आधारित पाठ्यक्रम पर एक विशेष अभिविन्यास सत्र का आयोजन किया गया था।