Friday, August 14, 2020 01:39 PM

आईजीएमसी शिमला में… कोरोना पर अलर्ट

शिमला  - कोरोना के लिए आईजीएमसी अलर्ट है। जानकारी के मुताबिक आईजीएमसी में, जो भी मरीज इलाज के  लिए आएगा उसे तीन बार स्कैन किया जाएगा। इसमें तीन काउंटर बनाए गए हैं, जिसमें एक के बाद एक काउंटर में मरीज की पूरी स्टडी करके उसे चिकित्सक के पास भेजा जाएगा। ये भी बताया जा रहा है कि अस्पताल में तीन कोरोना प्रभावितों की हालत स्थिर है। इनमें अब कोरोना प्रभावितों की हालत स्थिर है। गौर हो कि ये प्रभावित सुबह साढे छह बजे आईजीएमसी में कोरोना पॉजिटिव प्रभावित बड़ी ही सुरक्षा से अस्पताल लाए गए थे, जिसमें उन्हें अस्पताल कोरोना के लिए तैयार किए गए आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया। अलग रास्ते के माध्यम से उन्हें अस्पताल लाया गया। जानकारी के मुताबिक अब इनका इलाज अकसर मलेरिया में इस्तेमाल की जाने वाली हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन दवा से शुरू किया गया है। जैसे ही देर रात अस्पताल में पॉजिटिव मामलें की पुष्टि हुई वैसे ही अस्पताल ने तुरंत आईसोलेशन वार्ड को सूचना दे दी गई थी। वहीं आईजीएमसी आने वाले मरीजों के साथ आए तीमारदारों को भी मास्क दिया गया जा रहा है। आईजीएमसी में भर्र्ती किए गए कोरोना पॉजिटिव मामलों के बाद अस्पताल प्रशासन द्वारा ये पहल की गई है, जिसे अस्पताल के अंदर जाते ही दिया जा रहा है। प्रभावितों को प्रोटीन युक्त  खाना दिया जा रहा है। आईजीएमसी एमएस डा. जनक और मेडिकल स्टोर अधिकारी डा. राहुल गुप्ता का कहना है कि अस्पताल में भर्ती तीनों प्रभावितों की हालत स्थिर है। कैंसर और डायलासिस के मरीजा़ें को आईजीएमसी के माध्यम से मास्क और सेनेटाइजर दिए जा रहे हैं, जिसमें मरीज़ों के साथ आए उनके तीमारदारों को भी सहायता दी जाने वाली है। तीन पॉजिटिव मामलें आने के बाद शिमला में हड़कंप मच गया है। खासतौर पर सुबह ये भी देखा गया कि शिमला में कर्फ्यू खुलने के बाद राशन लेने के लिए लोगों को रविवार को शिमला में ज्यादा संख्या नहीं देखी गई है।

नालागढ़ से आने वाले मरीजों पर नजर

नालागढ़ से आने वाले मरीजों पर विशेष नज़र रखी जा रही है, जिसमें उनकी तबीयत के बारे में सही तरह से रिकॉर्ड तैयार करके उसे अस्पताल में चिकित्सक के पास भेजा जा रहा है।

15 लोग किए क्वारंटाइन

डीडीयू में 15 लोग क्वारंटाइन किए गए हैं, जिसमें से नेरवा में रविवार को गिरफ्तार किए गए चार लोग भी शामिल हैं

पांच दिन के बाद रिपोर्ट आ सकती है नेगेटिव

आईजीएमसी प्रशासन ने संभावना जताई है कि पांच दिन के बाद प्रभावितों की रिपोर्ट नेगेटिव आ सकती है। प्रशासन का मानना है कि अभी इनकी हालत स्थिर है, जिससे ये संभावना जताई जा रही है कि तीनों प्रभावितों का सैंपल पांच दिन बाद लिया जाएगा