Thursday, July 16, 2020 07:36 PM

आग की भेंट चढ़ी घास

चलौन में लाखों की वन संपदा खाक समाजसेवी आए आग बुझाने को आगे

रामपुर बुशहर-नई घास की चाह में जंगलों को दावानल के हवाले करने का सिलसिला शुरू हो गया है। जिसे समाज के बुद्धिजीवी वर्ग खासे चिंतित है लेकिन जंगलों में आग को बुझाने में अभी भी कई समाज से जुड़े लोग कन्नी काट रहे हैं। जंगलों में लग रही आग से जहां वन संपदा राख हो रही है वहीं जंगलों में रह रहे बेजुबान जानवर और पशु पक्षी भी इस दावानल की भेंट चढ़ रहे हैं। जानकारी के मुताबिक निरमंड खंड के पोशना पंचायत के चलौन जंगल में आग ने भयंकर रूप धारण कर लिया। जिसे देखते हुए समाजसेवी लोकेंद्र सिंह वैदिक ने वन विभाग,पोशना पंचायत सचिव कुलवंत सक्सेना और अग्निशमन विभाग को सूचित किया।  लेकिन हैरान करने वाली बात है कि जंगलों में लग रही आग को बुझाने में बहुत कम लोग दिलचस्पी ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि पोशना गांव के टिकम जोशी, जिया लाल, रंजीत, गब्बर सिंह वैदिक, राजकुमार और तिलक राज ने आग बुझाने में अपना अहम योगदान दिया।  इस मौके पर वन कर्मी देविंदर सिंह भी मौजूद रहे। उन्होंने सभी को आग बुझाने में दिए गए योगदान पर आभार प्रकट किया।