Wednesday, July 17, 2019 07:52 PM

आज सायरन बजे, तो घबराए नहीं

धर्मशाला   —11 जुलाई को सुबह भूकंप बारे लोगों को आगाह करने के लिए धर्मशाला स्थित उपायुक्त कार्यालय में सायरन बजने शुरू हों तो घबराएं नहीं। ध्यान रखें, यह सचमुच की आपदा नहीं बल्कि एक मॉक ड्रिल है। कांगड़ा जिला भूकंप की दृष्टि से अति संवेदनशील होने के कारण इस मॉक ड्रिल को जिला प्रशासन बहुत गंभीरता से करने की तैयारी में है। मेगा मॉक ड्रिल के जरिए जिला प्रशासन लोगांे को भूकंप आने की स्थिति में क्या करना है बारे शिक्षित तो करेगा ही साथ ही ऐसी स्थिति में अपनी तैयारियों का जायजा भी लेगा। इसके अतिरिक्त मॉक ड्रिल के दौरान होने वाली कमियों का आकलन भी करेगा। उपायुक्त राकेश कुमार प्रजापति ने बुधवार को अधिकारियों के साथ बैठक कर मेगा मॉक ड्रिल के विभिन्न पहलुओं की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने जिला आपदा प्रबंधन योजना और इसके सभी पहलुओं पर भी विस्तार से चर्चा की। डीसी ने कहा कि मॉक ड्रिल के माध्यम से जिला में आपदा प्रबंधन की तैयारियों व क्षमताओं का गहन आकलन एवं विश्लेषण किया जाएगा। इसमें सेना, अर्द्धसैन्य बल, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल जैसी केंद्रीय एजेंसियों के अलावा जिला के आपदा प्रबंधन से जुड़े सभी विभागों के अधिकारी एवं कर्मचारी हिस्सा लेंगे। उपायुक्त ने कहा कि मॉक ड्रिल के दौरान सभी अधिकारी-कर्मचारी आपसी समन्वय और टीम वर्क की भावना से कार्य करें और अपनी तय जिम्मेदारी का निर्वहन करें। इस तरह की आपात परिस्थिति में संबंधित विभागों की दक्षता और आपसी समन्वय का आकलन किया जाएगा।  इससे पूर्व, उन्होंने वीडियो कान्फ्रेसिंग से निदेशक-विशेष सचिव(राजस्व-आपदा) डीसी राणा को आपदा प्रबंधन की जिला प्रशासन की तैयारियों बारे अवगत करवाया। उन्होंने बताया कि जिला भर में उपमंडल स्तर पर भी 11 जुलाई को मॉक ड्रिल की जाएगी। बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त राघव शर्मा व एडीएम मस्त राम भारद्वाज सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।