Wednesday, December 11, 2019 05:23 PM

आनी में लोगों की सेहत राम भरोसे

आनी -कुल्लू  जिला के आनी विधानसभा क्षेत्र के आनी स्वास्थ्य खंड में अधिकतर अस्पतालों में डाक्टरों के पद रिक्त पड़े हैं। क्षेत्र की हजारों आबादी पर्याप्त स्वास्थ्य सुविधा न मिलने से इलाज के लिए दर-दर भटकने को मजबूर हंै। प्रदेश भर के अस्पतालों में डाक्टरों के रिक्त पदों को भरा जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्री अपने गृह जिला के सिविल अस्पतालों से लेकर सीएचसी में डाक्टरों के पदों को भरने में रुचि दिखा रहे हैं, लेकिन प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में बदतर हालात को लेकर चिंतित नजर नहीं आ रहे।   आनी के कुछ अस्पताल तो फार्मासिस्ट और चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के हवाले हैं, लेकिन इन रिक्त पदों को भरने के प्रयास होते नजर नहीं आ रहे। सरकार की आनी के प्रति ऐसी उदासीनता से लोगों में रोष पनपने लगा है। बेहाल जनता ने सरकार से आनी क्षेत्र में डाक्टरों के रिक्त पदों को शीघ्र भरने की गुहार लगाई है। विडंबना यह है कि आनी विधानसभा क्षेत्र के आनी स्वास्थ्य खंड में ही डाक्टरों के कुल 18 स्वीकृत पदों में से 11 पद खाली चल रहे हैं। चार दर्जन से ज्यादा दुर्गम पंचायतों के स्वास्थ्य का केंद्र बिंदु आनी मुख्यालय स्थित सिविल अस्पताल में ही आठ में से पांच डाक्टरों के पद खाली हैं, जबकि बाकी बचे तीन डाक्टरों में से किसी की रात्रि सेवा किसी को किसी की आपात सेवा तो किसी को दिन भर की सैकड़ों की ओपीडी में व्यस्त होने के चलते अक्सर मरीजों की कतार को देखा जा सकता है, जबकि एक मात्र सीएचसी दलाश में चार में से दो डाक्टर ही नहीं हैं। इतना ही नहीं स्वास्थ्य खंड के आठ पीएचसी  में से लगौटी, कुंगश, चवाई और खनाग आदि चार पीएचसी में भी डाक्टरों के पद रिक्त चल रहे हंै। यह पीएचसी या तो फार्मासिस्ट या फिर चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के हवाले है। जिला परिषद एवं विधानसभा का चुनाव लड़ चुके युवा नेता लोकेंद्र कुमार ने स्वास्थ्य सेवाओं में अनदेखी पर स्थानीय विधायक किशोरी लाल सागर और प्रदेश सरकार पर अनदेखी का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि स्थानीय विधायक द्वारा जनहित और ग्रामीण भोली-भाली गरीब जनता से जुड़े एक भी काम और मुद्दे पर कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा,  जबकि सड़कों की रिपेयर हो या डंगे लगाने का काम या सुरक्षा दीवारें लगाने का काम हो या फिर आईपीएच की स्कीमों पर काम करना हो तो खुद दफ्तरों में जाकर काम करवाया जाता है। उधर, इस विषय पर विधायक किशोरी लाल सागर से बात नहीं हो सकी, जबकि भाजपा मंडल आनी के अध्यक्ष एवं एपीएमसी कुल्लू एवं लाहुल-स्पीति के चेयरमैन अमर ठाकुर ने कहा कि उन्होंने इस विषय को लेकर सचिवालय में बात रखी है। वे इस मामले को लेकर  गम्भीर हैं और फिर से प्रयास करेंगे।

नर्स-फीमेल हैल्थ वर्कर तक नहीं हैं

आनी खंड में स्वास्थ्य सेवाओं का इस कद्र बुरा हाल है कि विभिन्न अस्पतालों 11 डाक्टरों के अलावा कुल 22 स्वास्थ्य उपकेंद्रों में से 19 में तो मेल हैल्थ वर्कर तक नहीं हैं, जबकि सात में फीमेल हैल्थ वर्करों के पद खाली हैं, जिनमें से लढागी, लुहाल, फनोटी, जाबो और फरबोग स्वास्थ्य उपकेंद्रों में फीमेल और मेल वर्कर दोनों के ही पद खाली चल रहे हैं, जबकि सिविल अस्पताल आनी और सीएचसी दलाश में स्टाफ नर्सों के कुल 24 में से 17 पद खाली हैं, जिनमें से अकेले आनी अस्पताल में ही 14 पद खाली चल रहे हैं, जिनके अलावा फार्मासिस्ट, रेडियोग्राफर, ड्राइवर, स्वीपर, चौकीदार सहित कई अन्य महत्त्वपूर्ण पदों पर भी खालीपन का ही बोलबाला है।