Tuesday, February 18, 2020 07:05 PM

इग्लू में रहना है तो आ जाएं मनाली

हजार फीट की ऊंचाई पर मनाली के हामटा में पर्यटकों को मिल रही सुविधा

मनाली - इग्लू का नाम सुनते जहन में फिनलैंड, स्विजरलैंड, आइसलैंड, नॉवे, स्वीडन जैसे देश की तस्वीर पैदा होती है, लेकिन हिमाचल में भी सैलानियों को इग्लू में रहने की सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। या यूं कहें कि साढ़े नौ हजार फीट की ऊंचाई पर मनाली के हामटा में बनाए गए इग्लू में इन दिनों रहने के लिए सैलानियों की भारी भीड़ उमड़ रही है। मनाली के युवाओं ने इग्लू बनाकर न सिर्फ  शीतकालीन पर्यटन को बढ़ावा दिया है,बल्कि पर्यटकों को विदेश का अहसास भी अपने देश में ही करवा रहे हैं। मनाली के युवा टशी व विकास ने इस साल फिर से पांच इग्लू तैयार दिए हैं, जबकि शेनव व गुलाहटी ने भी तीन इग्लू तैयार किए हैं। टशी और विकास पांच सालों से इग्लू बनाकर सैलानियों को रोमांचित कर रहे हैं। इन दिनों हामटा में बने यह इग्लू सैलानियों के आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं। हिमाचल घूमने आने वाले सैलानियों को इग्लू में रहने की सुविधा इस साल फिर मनाली में उपलब्ध करवाई गई है। साढ़े नौ हजार फीट की ऊंचाई पर बनाए गए इग्लू में रहने के लिए सैलानी काफी रुचि ले रहे हैं। सैलानी रात को रुकने के बजाय दिन में समय व्यतीत करने को प्राथमिकता दे रहे हैं। दिल्ली से मनाली पहुंचे पर्यटक राजीव व कुनाल ने कहा वह तीसरी बार मनाली आए हैं। उन्होंने बताया कि मनाली में इस बार ही उन्हें यह जानकारी मिली कि यहां पर इग्लू बनाया गया है, जहां पर रहने की सुविधा सैलानियों को दी जा रही है। यहां बता दें कि इग्लू पूर्ण रूप से बर्फ से तैयार किया जाता है। बर्फ के ब्लॉक बना कर इन्हें आपस में जोड़ दिया जाता है और फिर अंदर व बाहर से मिट्टी की तरह बर्फ  का लेप किया जाता है। ठंड अधिक होने के कारण ये पूरा स्ट्रक्चर जम कर मजबूत चट्टान सा बन जाता है। बहरहाल मनाली में इन दिनों इग्लू में रहने के लिए सैलानियों की खासी भीड़ उमड़ रही है।ं