Wednesday, December 11, 2019 05:22 PM

इलाज के लिए 50 किलोमीटर सफर

कोहाल में चिकित्सा सुविधा न होने से दर्जनों गांवों की सेहत रामभरोसे

सुरंगानी -तीसा विकास खंड की दूरस्थ कोहाल पंचायत में चिकित्सीय सुविधा न होने से ग्रामीणों का मर्ज दोगुना होकर रह गया है। इलाके में किसी के बीमार होने की सूरत में उपचार के लिए चालीस से पचास किलोमीटर दूर चंबा या तीसा का रुख करना पड़ रहा है। आपातकाल में कई मर्तबा समय पर चिकित्सीय सुविधा न मिलने से मरीज बीच राह में दम तोड़ रहे हैं। ग्रामीणों की इलाके में स्वास्थ्य केंद्र खोलने की मांग पर भी कोई सुनवाई नहीं हो पा रही है। ग्रामीण आशिक मोहम्मद, हसमद्दीन, सुरेश कुमार, डोगरू राम, प्रवीन बेगम, फारूक मोहम्मद, चुनी लाल, दिनेश कुमार, प्यार सिंह, रूबीना बेगम व सलीम पठान का कहना है कि कोहाल पंचायत के डडोडी, कैंथली, सनोथा, डमुई, थल्ली, एरहवाड़, पधरी व कुपाड़ा समेत कई गांव के लोगों की सेहत रामभरोसे है। इलाके में स्वास्थ्य सुविधा देने के लिए कोई भी संस्थान नहीं है। ऐसे में यदि इन गांवों में कोई व्यक्ति अधिक बीमार हो जाता है, तो उसे पीठ पर या पालकी में डालकर सड़क तक ले जाना पड़ता है। तदोपरांत वाहन में डालकर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र तीसा या चंबा पहंुचना पड़ता है। उन्होंने बताया कि वे कई मर्तबा कैंथली में आयुर्वेदिक डिस्पंेसरी खोलने की मांग उठा चुके हैं। मगर सिवाय आश्वासनों के कुछ भी हासिल नहीं हो पाया है। सरकार की इस अनदेखी ने लोगों को घर- द्धार के नजदीक बेहतर स्वास्थ्य सुविधा देने की मुहिम पर भी सवाल खडे कर दिए हैं। उन्होंने सरकार व प्रशासन से लोगों की दिक्कतों के मददेनजर केंथली में आयुर्वेदिक डिस्पेंसरी खोलकर राहत प्रदान करने की गुहार लगाई है।