Monday, April 06, 2020 06:32 PM

इस कहर से कैसे बचे दुनिया?

-राजेश कुमार चौहान, सुजानपुर टिहरा

सोशल डिस्टेंसिंग के प्रति चीन, जहां पर इस महामारी का जन्म हुआ, के लिए समय रहते ही गंभीरता दिखाई होती तो सारी दुनिया के लिए आफत नहीं बनती। हमारे देश के आम लोगों को दुनिया के दूसरों देशों के कोरोना वायरस के खौफनाक मंजर को देखते हुए गंभीरता से लेते हुए समय रहते ही सावधानियां बरत लेनी चाहिए। अगर यह महामारी हमारे देश में बेकाबू हो जाती है, तो यह 1918 का इतिहास दोहरा सकती है। सन् 1918 में हमारे देश में स्पैनिश फ्लू ने  महामारी का रूप लिया था, इसकी चपेट में आने से लाखों-करोड़ों लोगों की जान चली गई थी। कोरोना दुनिया से जल्दी अपना कहर खत्म करे, इसके लिए सारी दुनिया को कोरोना से बचने के तौर-तरीकों, इलाज के साथ दुआएं भी मांगनी चाहिए।