इस फील्ड में धैर्य बहुत जरूरी

इकोलॉजी रिसर्च में करियर संबंधित विस्तृत जानकारी प्राप्त करने के लिए हमने एचपीयू की इकोलॉजी  विभाग अध्यक्ष डा. अनिता शर्मा से खास बातचीत की..

अनिता शर्मा , इकोलॉजी विभाग अध्यक्ष, एचपीयू

इकोलॉजी रिसर्च में करियर की क्या संभावनाएं हैं?

इकोलॉजी से जुड़े यूवाओं के लिए सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्र में रोजगार की अपार संभावनांए हैं। इस फिल्ड में अर्र्बन इकोलॉजीएफारेस्ट इकोलॉजी, मरीन इकोलॉजी, रेस्टोरेशन इकोलॉजिस्टएवाइल्ड लाइफ इकोलॉजी, एन्वायर्नमेंटल बायोलॉजी में कार्य कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त छात्र इस क्षेत्र में इक्लीनिकल रिसर्च के अंतर्गत आप एडवांस प्रोग्राम इन क्लीनिकल रिसर्च, डिप्लोमा इन क्लीनिकल रिसर्चए बीएससी इन क्लीनिकल लेबोरेटरी टेक्नोलाजी, बीएससी इन क्लीनिकल माइक्योबायोलाजी, सर्टिफिकेट प्रोग्राम इन क्लीनिकल रिसर्च जैसे कोर्स कर सकते हैं।

इकोलॉजी में करियर बनाना हो तो न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता क्या है?

इकोलॉजी में साइंस बैकग्राउंड से होना जरूरी है यदि कोई छात्र इकोलॉजी से संबंधित कोर्स करना चाहता है, तो स्ननातक में उसका साइंस बैकग्राउंड, खासकर बॉटनी बायोलॉजी,जूलॉजी एवं फॉरेस्ट्री संबंधी विषय सहायक साबित होते हैं। इसके बाद मास्टर कोर्स में दाखिला मिलता है। यदि छात्र रिसर्च एटीचिंग व अन्य शोध संबंधी कार्य करना चाहते हैं तो मास्टर डिग्री के बाद पीएचडी करना अनिवार्य है।

क्या हिमाचल प्रदेश में संबद्ध पाठ्यक्रम उपलब्ध है?

विश्वविद्यालय में क्लीनिकल रिसर्च का पाठ्यक्रम पढ़ाया जाता है। जिसमें साइको पैथोलॉजी, मूल्यांकन की विभिन्न प्रक्रियाओं को पूरा करने के लिए उपकरणों का उपयोग करने के लिए भी प्रशिक्षित किया जाएगा। रोगों के निदांत के साथ-साथ एचपीयू से छात्र इस विषय में एमफील,शौध कार्य भी कर सकते हैं।

इस फील्ड में काम करने वाले युवाओं को किन चुनौतियों का सामना करना पड़ता है?

इस फील्ड में काम करने वाले युवाओं को सबसे जरूरी धैर्य, उन्हें धैर्य रखना होगा। आज के दौर में जिस तरह से युवा छोटी सी हार से निराश या मेहनत करने पर उचित सफलता नहीं मिल पाती । जिससे यूवा निराश हो जाता है। ऐसे में उसे धैर्य रखना होगा और लगातार प्रयासरत रहना होगा। अधिकरत देखा जाता है कि युवा निराश होने पर डिपरेशन में चले जाते है, ऐेसे में उन्हें हिमत न हार कर और स्वंय पर विश्वास रख कर आगे बढ़ना होगा। भविष्य में उन्हें निश्चय ही सफलता मिलेगी।

जो युवा इकोलॉजी रिसर्च में करियर बनाना चाहते हैं, उनके लिए कोई संदेश?

इकोलॉजी में करियर देख रहे युवाओं को चाहिए की वह खूब मेहनत करें। यदि उनमें इस क्षेत्र में कार्य करने का शौक है, लगन है तो ही आगे बड़े न कि जॉब के उद्देश्य से। दिल से कार्य करें, सफलता जरूर मिलेगी रूची होना बहुत आवश्यक है। इस क्षेत्र में कार्य कर उन्हें न केवल भारत अपितु भारत के बाहर भी कार्य करने का मौका मिल सकता है।

इस प्रोफेशन में प्रकृति प्रेमी होना जरूरी है?

जी बिलकुल इस प्रोफेशन में प्रकृति प्रेमी होना आवश्यक है। इस क्षेत्र में सफलता पाने के लिए जरूरी है कि प्रोफेशन प्रकृति से प्रेम करना सीखें और उसके सरंक्षण के लिए अपने दिल से कार्य करें। इस क्षेत्र में कार्य करने वाले छात्र में फैशन और पैशन दोनों का होना आवश्यक है।

-मोनिका बंसल, शिमला

Related Stories: