Tuesday, August 20, 2019 10:59 AM

ईद की मुबारकबाद, पर अपनों से नहीं हुई बात

राजधानी में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने जमकर मनाया जश्न, जे एंड के में फोन सेवा ठप होने से परिजनों से नहीं कर पाए संपर्क

शिमला -राजधानी शिमला में ईद उल जुहा का पर्व धूमधाम से मनाया गया। शिमला में नमाज अता करने के उपरांत सभी मुसलमान भाइयों ने एक-दूसरे को गले लगाकर ईद की बधाई दी। इस दौरान बच्चों, बुजुर्गों और महिलाओं में भी खासा उत्साह देखने को मिला। इसके अलावा सबकी भलाई, भाईचारे और समृद्धि के लिए अल्लाह से दुआ मांगी। शिमला के मस्जिदों में सुबह से ही नवाज अता करने के लिए मुस्लिम समुदाय काफी संख्या में पहुंचे। शिमला में ईद की धूम रही। देश-प्रदेश में जहां ईद का जश्न उल्लास से मनाया जा रहा है वहीं शिमला के कुछ कश्मीरवासी इस खुशी भरे माहौल में उदास भी नजर आए। कश्मीरवासियों का कहना है कि आठ दिन बीत जाने के बाद भी सरकार सुरक्षा के मद्देनजर स्थिति पर पैनापन अपनाए हुए हैं। अभी भी जम्मू कश्मीर के लिए संचार सेवा बहाल नहीं की गई। सप्ताह भर से शिमला में रह रहे कश्मीरवासियों की अपने परिवार से बात नहीं हो पाई है। इस बात का मलाल उनके चेहरे पर दिखाई दिया। शिमला में रह रहे कश्मिरियों ने बताया कि ईद के  मौके पर अपने परिवार वालों से बात भी नहीं कर पाए न ही उनको मुबारकबाद दे सके। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद थी कि ईद के मौके पर दूरसंचार व इंटरनेट की सेवाएं बहाल कर दी जाएंगी या कुछ रियायत मिल जाएगी। साथ ही बैंकिंग की सेवाएं भी अभी तक बंद हैं। परिवार को पैसा भी नहीं भेज पाए हैं। सरकार पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कश्मीरवासियों को कहा कि सरकार ने अनुच्छेद 370 हटाने की घोषणा के लिए गलत समय चुना। उन्होंने कहा कि हमें नहीं मालूम कि हमारा परिवार किन हालात में है। लोग तरह तरह की बात कर रहे हैं इससे मन में घबराहट बढ़ती जा रही है। हालांकि शिमला में ईद उल जुहा का पर्व धूमधाम से मनाया गया। शिमला के मस्जिदों में सुबह से ही नवाज अता करने के लिए मुस्लिम समुदाय के लोग काफी संख्या में पहुंचे।