Thursday, October 17, 2019 01:35 AM

उपचुनाव के लिए उफान पर सियासत

सुधीर शर्मा विरोध-प्रदर्शन के बहाने उतरेंगे मैदान में, भाजपा के पास सेवा सप्ताह हथियार

धर्मशाला  - विधानसभा उपचुनाव के लिए धर्मशाला की सियासत उफान पर है। अब तक अपने अलहदा अंदाज से काम करने वाले सुधीर शर्मा भी बुधवार से धर्मशाला में भाजपा के खिलाफ सड़क पर उतरने वाले हैं। पत्र बम को सियासी हथियार बनाकर सुधीर शर्मा भाजपा के खिलाफ मैदान में उतर रहे हैं, जबकि भाजपा के टिकटार्थी भी सेवा सप्ताह के बहाने मैदान में उतर पड़े हैं। सभी अपने अपने अंदाज में सेवा के बहाने फल वितरण व अन्य सेवा कार्य कर जनता के बीच हाजिरी भर रहे हैं, जिससे अब विस क्षेत्र के हर कोने में सियासी गरमाहट देखने को मिल रही है। भले ही अभी तक भाजपा या कांग्रेस ने प्रत्याशियों के नामों की घोषणा नहीं की है, लेकिन क्षेत्र का माहौल पूरी तरह से सियासी रंग में रंग गया है। कांग्रेस नेता सुधीर शर्मा ने भी प्रदेश सरकार व भाजपा के खिलाफ सियासी बिगुल बजाते हुए सीधे-सीधे मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने भाजपा के अपने ही हथियार को उन पर इस्तेमाल करते हुए इसकी सीबीआई से जांच करवाने की मांग उठाते हुए आंदोलन छेड़ने का ऐलान कर दिया है। इसके लिए बुधवार को बाकायदा धर्मशाला शहर में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। उधर, भाजपा में टिकटों को लेकर चल रही उहापोह की स्थिति के बीच टिकटार्थियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन को सेवा सप्ताह के रूप में मनाने का बहाना मिल गया है। इस बहाने नेता गरीबों एवं जरूरतमंदों के बीच पहुंच रहे हैं। इसके अलावा भाजपा ने चारों जोन में बैठकों का दौर अब बूथ लेवल तक शुरू कर दिया है। हालांकि भाजपा को बिना चेहरे के मैदान में जाने से कई तरह के सवालों का सामना करना पड़ रहा है।

सेफ कोई भी नहीं दिख रहा

धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र के ओवरआल हालात को देखें तो उपचुनाव में कांग्रेस व भाजपा संगठनों को एक-दूसरे से मुकाबला करने से पहले अपने-अपने घरों में अपने ही कार्यकर्ताओं व नेताओं से जूझना होगा। दोनों दलों में एक-दूसरे को नीचा दिखाने के लिए भी खूब सियासत हो रही है। ऐसे में किसी को सेफ नहीं समझा जा सकता है।