Saturday, September 21, 2019 04:25 PM

ऊना में मिटेगा कचरे का नामोनिशान

जिला प्रशासन आज से छेड़ेगा ‘मेरा ऊना, स्वच्छ ऊना‘ अभियान, सफाई को जन आंदोलन बनाने की मुहिम शुरू

ऊना -मेरा ऊना, स्वच्छ ऊना अभियान 11 सितंबर से दो अक्तूबर तक मनाया जाएगा। उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने बताया कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर यह अभियान संपन्न होगा। अभियान का उद्देश्य स्वच्छता को जन आंदोलन बनाना है ताकि हर व्यक्ति के जीवन स्तर में सुधार लाया जा सके। पोलिथीन के इस्तेमाल को बंद करना व गीले तथा सूखे कचरे का सही निपटारा करना भी अभियान का हिस्सा है। इस अभियान को सफल बनाने के लिए विभिन्न विभाग को दायित्व प्रदान किए गए हैं, लेकिन सबसे महत्त्वपूर्ण है कि ऊना जिला के सभी निवासी भी इसमें अपना बहुमूल्य सहयोग दें। डीसी ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ग्रामीण क्षेत्रों में कैंप लगाकर लोगों को गंदगी से फैलने वाली बीमारियों के बारे में अवगत करवाएगा। इसके अलावा व्यक्तिगत स्वच्छता के महत्त्व के बारे में भी जानकारी प्रदान की जाएगी। साथ ही सैनेटरी पैड्स के उचित निपटारे के बारे में भी बताया जाएगा। उन्होंने कहा कि आईपीएच विभाग को ग्रामीण इलाकों में पेयजल स्रोतों के सैंपल लेने के निर्देश दिए गए हैं। पीडब्ल्यूडी तथा आईपीएच विभाग, ठेकेदारों के पास काम करने वाले कामगारों को टायलट की सुविधा सुनिश्चित करेगा, ताकि कोई भी मजदूर खुले में शौच के लिए न जाए। उपायुक्त संदीप कुमार ने कहा कि 11 से 14 सितंबर तक खंड स्तर पर जागरूकता शिविर आयोजित होंगे। इस दौरान पोलिथीन हटाओ, पर्यावरण बचाओ अभियान पर भी विशेष ध्यान दिया जाएगा और लोगों से पोलिथीन का इस्तेमाल बंद करने की अपील की जाएगी। 15 से 18 सितंबर तक इस अभियान में युवक मंडल, महिला मंडल और स्वयं सहायता समूह में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करेंगे। 19 से 23 सितंबर तक आंगनबाड़ी केंद्रों तथा शिक्षण संस्थानों में अभियान छेड़ा जाएगा। 24 से 28 सितंबर तक पेयजल स्रोतों की सफाई तथा 29 सितंबर से पहली अक्तूबर तक सूखे व गीले कचरे से संबंधित लोगों को जागरूक किया जाएगा। गांधी जयंती पर स्वच्छता शपथ दिलाई जाएगी और पोलिथीन हटाओ, पर्यावरण बचाओ अभियान छेड़ा जाएगा।