Monday, September 23, 2019 02:29 AM

एंबुलेंस में दवाआें की चैकिंग

प्रदेश भर के अस्पताल एमएस से मांगा सुविधाआें का ब्यौरा

शिमला  - प्रदेश में सामान्य एंबुलेंस की चैकिंग शुरू हो गई है। इसमें मुख्यतौर पर 31 दवाआें के स्टॉक को जांचा जा रहा है। सामान्य एंबुलेंस में जीवनरक्षक दवाएं रखी जा रही हैं या नहीं, इस पर प्रदेश सरकार के  दिशा-निर्देश के बाद जिला सीएमओ और बीएमओ हरकत में आ गए हैं। उन्होंने सभी अस्पताल एमएस से सामान्य एंबुलेंस में दी जाने वाली दवाआें के साथ सुविधाआें का ब्यौरा मांगा है। इस पर आगामी कार्रवाई करते हुए शिमला, सिरमौर, कांगड़ा, हमीरपुर अस्पतालों में एंबुलेंस की जांच भी की गई है और उन्हें प्राथमिक इलाज वाली सुविधाआें से लैस होने के बारे में बताया गया है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जिला सीएमओ और बीएमओ को ये निर्देश जारी किए गए थे कि वे अपने जिले में चलने वाली सभी सामान्य एंबुलेंस में यह चैक करें कि मापदंड के अनुरूप ये एंबुलेंस जीवनरक्षक दवाआें को रख रही हैं या नहीं। गौर हो प्रदेश में चल रही हर एंबुलेंस में 31 दवाआें के साथ दो स्ट्रेचर और आपात उपकरण रखने के निर्देश स्वास्थ्य मंत्री ने राष्ट्रीय एंबुलेंस सेवा की समीक्षा बैठक के दौरान जारी किए थे। इसमें स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार ने कहा था कि प्रत्येक सामान्य एंबुलेंस में निर्धारित मापदंडों के अनुरुप 31 दवाइयां, दो स्ट्रेचर व अन्य आपात उपकरणों की हर समय उपलब्धता सुनिश्चित बनाई जाए, जिस पर अब आगामी कदम उठाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने जिला सीएमओ और बीएमओ को सामन्य एंबुलेंस में दवाआें का पूरा स्टॉक रखने के लिए कहा था। इस पर अब एमएस अपने अस्पतालों की एंबुलेंस को जांच रहे हैं।