Monday, September 16, 2019 08:22 PM

एक और क्रशर को मंजूरी न दे सरकार

जयसिंहपुर, लंबागांव - उपमंडल  जयसिंहपुर  के तहत  ब्यास नदी के किनारे एक महिला द्वारा रेत, बजरी व अन्य सामग्री उठाने के लिए प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा एडीएम कांगड़ा मस्त राम  भारद्वाज की अध्यक्षता में  एन्वायरनमेंट  पब्लिक हियरिंग का आयोजन गुरुवार को प्रस्तावित साइट पर किया गया। उपमंडल जयसिंहपुर के आसपास के गांवों कुटाहन, बागकुलजा, धरोड़, दाबला, लंबागांव, जयसिंहपुर, करनघट्ट, टिक्करी, गुजरेड़ा व लंबागांव  सहित  अन्य गांवों के पंचायत प्रधानों, महिला मंडल व युवक मंडलों  के सदस्यों सहित अन्य लोगों ने भाग लिया और इस प्रस्तावित क्रशर और माइनिंग लीज पर अपना विरोध दर्ज करवाया। लोगों का कहना था कि यहां  पहले से ही अन्य तीन स्टोन क्रशर कार्यरत हैं ऐसे में अगर चौथे को भी माइनिंग लीज दी जाती है तो इन क्रशरों के आसपास के गांवों के बाशिंदों का जीना दूभर हो जाएगा। लोगों का कहना था वह पहले से अन्य क्रशरों को हटाने की मांग कर रहे हैं ऐसे में सरकार अन्य क्रशर को मंजूरी न दे। बगकुलजां पंचायत के प्रधान इलमूद्दीन ने कहा कि प्रस्तावित क्रशर के लिए माइनिंग लीज नहीं दी जानी चाहिए । उन्होंने कहा कि जो विरोध लोग यहां दर्ज करवाते हैं शिमला तक पहुंचते वो सारी कार्रवाई बदल जाती है। विद्युत बोर्ड से रिटायर्ड कुटाहन निवासी सतीश शर्मा ने कहा कि इस क्षेत्र में स्टोन क्रशरों द्वारा किए जा रहे अवैध खनन से कबीर सत्संग भवन बह गया। कुटाहन निवासी रिटायर्ड अधिकारी जसवंत धीमान ने कहा कि यहां सरासर प्रदूषण मानकों का उल्लंघन हो रहा है। उन्होंने कहा कि पहले से ही तीन क्रशर व दो तारकोल के मिक्सिंग प्लांट हैं। उन्होंने कहा कि प्रस्तावित लीज धारक ने जो प्रदूषण के मानक यहां जन सुनवाई में बताए हैं उसके मुकाबले यहां चार गुना ज्यादा प्रदूषण हैं। माइनिंग लीज का विरोध करते हुए बीडीसी सदस्य महिंद्र कुमार ने कहा कि आज जन सुनवाई की कोई सूचना जन प्रतिनिधियों को नहीं दी गई थी। वहीं स्थानीय महिला मंडलों ने कहा कि क्त्रशरों से उड़ती धूल  व ध्वनि प्रदूषण के चलते छोटे-छोटे बच्चों को कई प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां पैदा हो रही हैं। जयसिंहपुर पंचायत के पूर्व उपप्रधान विनोद शर्मा ने कहा कि  यहां खनन लीज नहीं दी जानी चाहिए इसके अलावा जिला पार्षद स्कीमा देवी, महिला मंडल की सदस्य कांता देवी, मीना देवी एमीरा देवी सहित दर्जन भर महिला मंडलों ने भी प्रस्तावित माइनिंग लीज का विरोध जताया। इस अवसर पर एसडीएम अश्वनी सूद व प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के उच्च अधिकारी व विभिन्न विभागों के अधिकारी व  कर्मचारी मौजूद थे।