Saturday, September 21, 2019 05:00 PM

एक हजार रुपए मिले मेडिकल भत्ता

सिहुंता -पेंशनर वेलफेयर एसोसिएशन की सिहंुता खंड इकाई की मासिक बैठक का आयोजन मंगलवार को धुलारा में किया गया। बैठक की अध्यक्षता खंड इकाई के मुख्य सलाहकार प्रीतम भारद्वाज ने की। बैठक में वक्ताओं ने हाल ही में विधायकों के यात्रा भत्ते को बढ़ाए जाने के फैसले पर कड़ी नाराजगी जाहिर की। बैठक में पेंशनरों के अलावा जनहित से जुड़ी विभिन्न मांगों व समस्याओं पर भी चर्चा की गई।  बैठक में वक्ताओं ने कहा कि जब राष्ट्र-एक, एक संविधान और एक कानून सभी देशवासियों पर लागू है। और कर्मचारियों व पेंशनरों के लिए वेतन आयोग वेतन व भत्ते निर्धारित करता है। ऐसे में देश के सांसद व प्रदेश के विधायक कैसे स्वयं तालियां बजाकर अपने वेतन व भत्ते बढ़ा लेते हैं। बैठक में महामहिम राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को प्रस्ताव भेजने का निर्णय लिया गया कि सांसदों व विधायकों के वेतन बढ़ाने के लिए अलग से वित्त आयोग का गठन किया जाए। थकोली- मोतला व समोट बाजार से पीएचसी संपर्क मार्ग की खराब हालत पर चिंता जताते हुए जल्द मरम्मत कार्य करवाने की मांग की। बैठक में वक्ताओं ने पीएचसी सिहंुता में विशेषज्ञ चिकित्सक की मांग भी उठाई है। उन्होंने तर्क दिया कि विशेषज्ञ चिकित्सक न होने से लोगों को उपचार के लिए कई किलोमीटर दूर शाहपुर या टांडा जाना पड़ रहा है। बैठक में वक्ताओं ने 65 से 75 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके पेंशनरों की पेंशन में पांच से पंद्रह फीसदी की बढ़ोतरी कर मूल पेंशन में समायोजित करने की मांग उठाई। वक्ताओं ने पेंशनरों के लंबित मेडिकल बिलों के भुगतान हेतु जल्द बजट का प्रावधान भी मांगा। उन्होंने मेडिकल भत्ते को 400 रुपए मासिक से बढ़ाकर एक हजार रुपए करने की मांग भी सरकार से की। बैठक में जिला प्रतिनिधि केडी ठाकुर, महासचिव आंेकार सिंह चौहान, कोषाध्यक्ष करनैल सिंह राणा, प्रेस सचिव सोमदत्त शर्मा, विचित्र सिंह, ओम प्रकाश शर्मा, खैदी राम, कमल कुमार, प्रकाश गोस्वामी, राज सिंह, लेख चंद, चूहड राम, कांता देवी, खेलो राम, सुशीला ठाकुर, बलवान सिंह राणा व जोगिंद्र सिंह समेत 45 पेंशनरों ने हिस्सा लिया।