Monday, April 06, 2020 05:48 PM

एचपीयू…छह विदेशी छात्रों पर नजर

खाने-पीने से लेकर होस्टल में मुहैया करवाई जा रहीं दवाइयां, दो हफ्ते से अंडर आब्जर्वेशन

शिमला-प्रदेश विश्वविद्यालय में छह विदेशी छात्रों के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। खाने पीने से लेकर इन छात्रों को मेडिकल सुविधाएं भी प्रदेश विश्वविद्यालय में दी जा रही हैं। दरअसल अब विश्वविद्यालय में फंसे यह विदेशी छात्र तब तक होस्टल में ही रहेंगे, जब तक कि कोरोना वायरस को लेकर स्थिती सामान्य नहीं हो जाती है। एचपीयू प्रशासन ने इन विदेशी छात्रों को पूरी तरह से नजरबंद कर दिया है। इसके साथ ही कड़ी हिदायतें भी दी हैं कि वे बाहर न निकलें। बता दें कि विश्वविद्यालय के होस्टल में छह विदेशी छात्र नजरबंद हो गए हैं। इन छात्रों को अगर एचपीयू कैंपस या फिर किसी काम से बाहर जाना पड़े, तो ऐसे में डीएसडब्ल्यू से परमिशन लेनी होगी। इसके अलावा रोजाना अपनी हैल्थ से जुड़ी जानकारी भी एचपीयू व स्वास्थ्य महकमे को देनी होगी। फिलहाल एचपीयू ने भी इन छात्रों को होस्टल में रहने की परमिशन दे दी है। बताया जा रहा है कि जो छात्र होस्टल में रूके हैं, उनमें दो लड़कियां जिसमें एक इंडोनेशिया व एक मरक्को की छात्रा है। वहीं, होस्टल में रहने वाले चार छात्र अफगानिस्तान से हैं। दरअसल हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में 26 विदेशी विद्यार्थियों के साथ विश्वविद्यालय में बैठक हुई थी। बैठक में विदेशी विद्यार्थियों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए गए। निर्देश दिए गए थे कि सभी विदेशी विद्यार्थी कोरोना वायरस के चलते जो भी गाइडलाइन जारी की गई है, उनकी अनुपालना करें। उन्हें कहा गया है कि यदि कहीं जाते हैं तो इसकी जानकारी विश्वविद्यालय प्रशासन को जरूर दें। इसके अलावा उन्हें अधिक भीड़ वाले स्थानों पर न जाने की भी सलाह दी गई। बैठक के दौरान इन विद्यार्थियों को सीएमओ सहित विश्वविद्यालय के अधिकारियों के संपर्क नंबर भी दिए गए, ताकि भविष्य में यदि उन्हें कोई भी स्वास्थ्य संबंधित दिक्कत होती है तो वे तुरंत इसकी जानकारी दें।

20 छात्र निजी पीजी में रहने को मजबूर

प्रदेश विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले 20 विदेशी छात्रों को बाहर प्राइवेट पीजी में रहने को मजबूर होना पड़ रहा है। यह छात्र भी कहीं बाहर नहीं जा रहे हैं। पीजी के अंदर रहने के ही आदेश इन्हें दिए गए हैं। बता दें कि एचपीयू प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग इन छात्रों के स्वास्थ्य का भी विशेष ध्यान रख रहा है।