Monday, October 21, 2019 01:15 AM

एडवोकेट नरेंद्र बोले, बढ़ती जनसंख्या खतरे की घंटी

अंब -भारत में दिनों दिन बढ़ रही जनसंख्या देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए खतरे की घंटी है। इसकी रोकथाम के लिए जल्द कानून बनाए जाने के लिए केंद्र सरकार को पहल करनी चाहिए। यह बात गुरुवार को अंब में आयोजित प्रेस वार्ता में अंब बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष एवं वरिष्ठ अधिवक्ता नरेंद्र शर्मा ने कही। उन्होंने कहा कि भारत की जनसंख्या वर्तमान में डेढ़ सौ करोड़ का आंकड़ा क्रॉस कर रही है। यदि जल्द इस पर कोई अंकुश नहीं लगाया गया तो आने वाले समय मे यह आंकड़ा विस्फोट का रूप धारण कर लेगा। उन्होंने कहा कि देश पहले ही बढ़ती जनसंख्या के कारण कई तरह की घातक समस्याओं से गुजर रहा है। इसका सबसे ज्यादा बुरा असर देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि दुःख का विषय है कि देश के अनाज, बागबानी आदि का उत्पादन दिनों दिन घटता जा रहा है। जबकि इसका उपयोग करने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। परिणाम स्वरूप लोगों को खाद्य वस्तुओं की आपूर्ति के लिए उत्पादनकर्ता कई तरह की घटिया सामग्री को सम्मिलित कर रहे हैं। इसका सबसे बुरा असर लोगों की सेहत पर पड़ रहा है। परिणाम स्वरूप देश के अस्पतालों में रोगियों की संख्या बढ़ती जा रही है। उन्होंने बताया कि बसों, रेलगाडि़यों में बैठने के लिए सीटों की संख्या कम पड़ती जा रही है। बेरोजगारी व दंगे फसाद की जड़ भी देश की बढ़ती जनसंख्या है। उन्होंने कहा कि देश की बढ़ती जनसंख्या विस्फोट का रूप धारण कर चुकी है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को जनसंख्या की रोकथाम के लिए अतिशीघ्र कानून लाकर जनसंख्या पर अंकुश लाने की जरूरत है। उन्होंने भरोसा जताया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जल्द इस पर कानून लाकर देश को संकट से बाहर निकालने का प्रयास करेंगे।