Tuesday, January 21, 2020 12:00 PM

एनपीए बढ़ोतरी से नुकसान

-रूप सिंह नेगी, सोलन

खबरों की मानें तो भारतीय रिजर्व बैंक ने बहुचर्चित मुद्रा लोन योजना के अंतर्गत तकरीबन 3.21 लाख करोड़ की रकम एनपीए होने का खुलासा किया है, और आरटीआई सूचना के अनुसार तकरीबन 17 हजार करोड़ की रकम खराब लोन यानी डूबत खाते में वर्गीकृत है। एनपीए और डूबत खातों से सार्वजनिक बैंकों की सेहत को भारी नुकसान पहुंचने के साथ देश की अर्थव्यवस्था पर यह प्रतिकूल असर डाल सकता है।