Monday, September 16, 2019 07:35 PM

एसएमसी अध्यापकों के लिए नहीं बनेगी पालिसी

शिमला -प्रदेश के सरकारी स्कूलों में सालों से तैनात एसएमसी शिक्षकों के लिए सरकार कोई भी पॉलिसी नहीं बनाएगी। सरकार ने इसको लेकर संकेत भी दे दिए हैं। शिक्षा मंत्री ने तो साफ कहा है कि एसएमसी शिक्षकों के लिए कोई नियम नहीं है और रेगुलर शिक्षक आने पर उन्हें स्कूल छोड़ना होगा। प्रदेश के 15 हजार सरकारी स्कूलों में मौजूदा समय में 2731 एसएमसी शिक्षक सरकारी शिक्षा की लौ जला रहे हैं। ऐसे में सरकार के अब यह संकेत कि एसएमसी शिक्षकों के लिए कोई पॉलिसी नहीं बनेगी, एक बड़ा झटका है। वहीं सरकारी स्कूलों में 10 से 15 साल नौकरी करने के बाद ये शिक्षक क्या करेंगे, यह  एक बड़ा सवाल है। बता दें कि इससे पहले भी हाई कोर्ट के निर्देशों के बाद भी राज्य में एसएमसी शिक्षकों की भर्ती पर रोक लग गई है। वहीं, सरकार के कोर्ट के आदेशों के बाद शिक्षा विभाग एसएमसी की जगह रेगुलर शिक्षकों की भर्ती को लेकर प्रोपोजल बना रही है। बताया जा रहा है कि सभी पदों पर भरे जाने वाले शिक्षकों की रेगुलर भर्ती के लिए विभाग ने प्रोपोजल तैयार कर दिया है। अब जल्द सरकार की मंजूरी के बाद एसएमसी की जगह रेगुलर शिक्षकों की भर्ती शिक्षा विभाग शुरू करेगा। सूत्रों की मानें तो सरकार के आदेशों के बाद सरकारी स्कूलों में सेवाएं दे रहे ग्रांट व नॉन ग्रांट दोनों ही कैटेगरी के एसएमसी शिक्षकों को बेरोजगार होना पड़ सकता है। मानसून सत्र के दौरान भी इस मुद्दे पर चर्चा हुई थी। इसमें भी शिक्षा मंत्री ने कहा था कि एसएमसी के लिए भविष्य में  कोई भी पॉलिसी बनाने की योजना नहीं है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में एसएमसी शिक्षकों की भर्तियां सरकार व विभाग ने तब की थी, जब सरकारी स्कूलों में शिक्षक नहीं थे।  राज्य के स्कूलों में एसएमसी के तहत पीजीटी शिक्षकों की संख्या 794, डीपीई 106, टीजीटी 595, सी एंड वी 1100 और जेबीटी शिक्षक 136 हैं। अब सरकारी स्कूलों में एसएमसी की जगह रेगुलर शिक्षक की भर्ती का फैसला भले ही कई युवाओं को बेरोजगार करे, लेकिन शिक्षा विभाग ने भर्ती के दौरान ही यह साफ किया था कि एसएमसी टीचर्ज को रेगुलर शिक्षक आने पर स्कूल छोड़ना होगा।

किस जिले में कितने शिक्षक

बिलासपुर में एसएमसी के तहत पीजीटी चार, डीपीई दो, टीजीटी दो, सी एंड वी 41, चंबा में पीजीटी 158, डीपीई 11, टीजीटी 159 सी एंड वी 178, जेबीटी 71, हमीरपुर में सी एंड वी 25, कांगड़ा में पीजीटी 53, डीपीई 14 टीजीटी एक, सी एंड वी 178, किन्नौर में पीजीटी 62, डीपीई एक, टीजीटी 47, सी एंड वी 52, कुल्लू में पीजीटी 19, डीपीई 19, टीजीटी 18, सी एंड वी 73, लाहुल-स्पीति में पीजीटी 46, डीपीई 12, टीजीटी 25, सी एंड वी 41, मंडी में पीजीटी 88, डीपीई 19, टीजीटी 46, सी एंड वी 133, शिमला में टीजीटी 124, डीपीई 24, टीजीटी 144, सी एंड वी 148 सिरमौर में पीजीटी 154, डीपीई 16, टीजीटी 144, सी एंड वी 156, जेबीटी 156, सोलन में पीजीटी 27, टीजीटी सात, सी एंड वी 52, ऊना में पीजीटी 19, डीपीई पांच, टीजीटी दो, सी एंड वी के 23 शिक्षक एसएमसी के तहत लगे हुए हैं।