Sunday, September 15, 2019 01:01 PM

एसएस पांडव पीजीआई में एचओडी

पालमपुर के डाक्टर ने एडवांस आई केयर का संभाला पदभार, अब तक जांच चुके हैं 50 हजार मरीज

चंडीगढ़ -हिमाचल प्रदेश से संबंधित डाक्टर एसएस पांडव, जो पीजीआई के एडवांस आई केयर सेंटर में बतौर प्रोफेसर कार्यरत थे, को पीजीआई के इसी विभाग के हैड ऑफ डिपार्टमेंट (एचओडी) के पद पर प्रोमोट कर दिया गया है। प्रोफेसर ने सोमवार को अपना पदभार संभाल लिया है। श्री पांडव हिमाचल प्रदेश के पालमपुर इलाके से हैं। उन्होंने शिमला मेडिकल कालेज से एमबीबीएस करने के बाद 1985 में पीजीआई ऑप्थेल्मोलॉजी में एमएस की और वर्ष 1993 में बतौर इंसल्टेंट का पदभार संभाला। ग्लूकोमा स्पेशिलिस्ट डाक्टर एसएस पांडव ने बताया कि उन्होंने ग्लूकोमा में एडवांस स्टडी के लिए 2003 से 2005 के बीच आस्ट्रेलिया में फैलोशिप की और अब तक करीब पचास हज़ार मरीजों कि जांच कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि ग्लूकोमा को हिंदी में कला मोतिया कहते हैं। इस बीमारी का समय रहते इलाज शुरू हो जाए, तो ग्लूकोमा पीडि़त मरीज की आंखों की रोशनी बचाई जा सकती है। पीजीआई में इस बीमारी से पीड़त करीब अढ़ाई सौ मरीज रोजाना आते हैं। उन्होंने बतौर हैड ऑफ डिपार्टमेंट पदभार संभालते हुए कहा कि यहां आई केयर सेंटर में मौजूदा आधुनिक मशीनों का लाभ आम आदमी तक पहुंचाने के प्रयास करेंगे। श्री पांडव ने बताया कि पीजीआई में पड़ोसी राज्यों के मरीजों का रश ज्यादा रहता है। एसएस पांडव ने बताया कि वह मरीजों के इलाज के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे। पीजीआई के एडवांस आई केयर सेंटर के एचओडी का पद गत शनिवार को ही रिक्त हुआ था। इस पद पर तैनात प्रोफेसर एमआर डोगरा कार्यरत थे और उनकी सेवानिवृत्ति के बाद यह पद खाली हुआ था। हिमाचल के लिए यह गौरव की बात है कि पहले इस पद पर एचओडी रहे प्रोफेसर जगत राम भी हिमाचली थे और आज वह पीजीआई के डायरेक्टर के पद पर विराजमान हैं। बहरहाल श्री पांडव को पीजीआई में बड़ा ओहदा से मिलने से प्रदेश का गौरव बढ़ा है।