Wednesday, November 21, 2018 06:57 AM

एसडीएम संभालेंगे सभी आदर्श स्कूलों की कमान

शिमला— हिमाचल में खुलने वाले अटल आदर्श आवासीय विद्यालयों की कमान हर विधानसभा क्षेत्र में एसडीएम संभालेंगे। राज्य सरकार ने शिक्षा पर नजर रखने के लिए यह फैसला लिया है। क्षेत्र के उपमंडलाधिकारी ही आदर्श स्कूलों का निरीक्षण करने के बाद वहां की कमियों को दूर करेंगे। राज्य के हर विधानसभा सभा क्षेत्र में खुलने वाले आदर्श विद्यालय में सरकार ने एक और शर्त रखी है, जिसमें कहा गया है कि ये स्कूल उन क्षेत्रों में नहीं खोले जाएंगे, जहां पर जवाहर नवोदय और एकलव्य स्कूल होंगे। जानकारी के अनुसार सभी एसडीएम अपने-अपने क्षेत्रों में जहां आदर्श स्कूल खोले जाएंगे, वहां पर जगह का चयन भी करेंगे। खास बात तो यह है कि नए साल से आदर्श स्कूलों में नर्सरी से लेकर जमा दो तक की कक्षाएं लगनी शुरू हो जाएंगी। हिमाचल के सभी विधानसभा क्षेत्रों में खोले जाने वाले इन विद्यालयों के संचालन से लेकर छात्रों को मिलने वाली सुविधाओं पर भी एसडीएम ही नजर रखेंगे। क्षेत्र के एसडीएम ही सरकार को आदर्श स्कूलों की हर रिपोर्ट भेजेंगे। सरकार की ओर से आदर्श स्कूलों को जिम्मा एसडीएम को देना अपने आप में एक बड़ा कदम है। बता दें कि पहले चरण में राज्य में दस आदर्श स्कूल खोले जा रहे हंै, जिनमें से पांच स्कूलों में केवल छात्राएं ही पढ़ पाएंगी। शेष पांच स्कूलों में पचास प्रतिशत छात्र और पचास प्रतिशत छात्राएं होंगी। अहम बात यह है कि जहां सरकारी स्कूलों में प्री नर्सरी कक्षाएं शुरू की जा रही हैं। वहीं, सरकार की ओर से खोले जाने वाले आदर्श आवासीय विद्यालयों में नर्सरी कक्षा से पढ़ाई शुरू होगी। हिमाचल में खुलने वाले आदर्श विद्यालयों की सबसे खास बात यह है कि इन स्कूलों में लड़कियों को ज्यादा तवज्जो  दी गई है। आदर्श स्कूलों में नए वर्ष से जब दाखिले शुरू होंगे, तब क्षेत्र के एसडीएम को सीटें सही तरीके से भरी जा रही हंै या नहीं, इस पर पूरी नजर रखनी होगी। इसके साथ ही राज्य सरकार व शिक्षा विभाग को समय रहते रिपोर्ट भेजनी होगी। बताया जा रहा है कि पहले चरण में शुरू किए जा रहे आदर्श स्कूलों में हर कक्षा में 50-50 छात्रों का बैच बैठेगा। आदर्श स्कूलों में छात्रों की शिक्षा में गुणवत्ता आ सके, इसके लिए राज्य सरकार की ओर से अलग से कमेटी गठन करने के निर्देश भी एसडीएम को ही दिए गए हंै। यह कमेटी ही तय करेगी कि क्षेत्र के किस जगह पर स्कूल खोले जाए।

जगह की कमी आदर्श स्कूल के लिए रोड़ा

हिमाचल सरकार व शिक्षा विभाग भले ही दावा कर रहे हों कि नए वर्ष से आदर्श स्कूलों में कक्षाएं लगनी शुरू हो जाएंगी, लेकिन सूत्रों के अनुसार जिन विधानसभा क्षेत्रों में इन स्कूलो का निर्माण करना है, वहां पर किन्हीं कारणों से जगह नहीं मिल पा रही है। सूत्र बताते हं कि नए वर्ष से खुलने वाले आदर्श स्कूलों को कुछ समय के लिए प्राइवेट भवनों में चलाया जाएगा। राज्य सरकार और शिक्षा विभाग इन दिनों आदर्श स्कूलों के लिए जगह चयन को लेकर माथापच्ची कर रहे हंै। बावजूद इसके कहीं भी अभी तक जमीन फाइनल नहीं हुई थी।