Thursday, October 17, 2019 01:53 AM

कठलग पीडि़तों को घर बनाने को मिलेंगे 14 लाख

विधायक राजेंद्र गर्ग की मांग पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने दी मंजूरी, तीन-तीन बिस्वा देने के लिए बलोह गांव में जमीन सिलेक्ट घुमारवीं-कसारू पंचायत के कठलग (करयालग) गांव में बरपे कुदरत के कहर से बेघर हुए सात परिवारों को आशियाने बनाने के लिए प्रदेश सरकार 14 लाख रुपए देगी। विधायक राजेंद्र गर्ग की मांग पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने आवास बनाने के लिए 14 लाख रुपए स्वीकृत किए हैं। बेघर परिवारों को यह सहायता राशि मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत दी जाएगी, जिससे बेरहम बारिश से बेघर हुए परिवारों को आश्रय मिल सके, जबकि बेघर परिवारों को दी जाने वाली जमीन की स्वीकृति भी शीघ्र मिल जाएगी, जिससे आपदा से पीडि़त परिवारों को शीघ्र अपना आवास मिल सके। जानकारी के मुताबिक कसारू पंचायत के गांव कठलग (करयालग) के पांच तथा सेऊ पंचायत के कुठाकर गांव के दो परिवार मूसलाधार बारिश से हुई लैंड स्लाइडिंग के कारण बेघर हो गए थे। बेघर हुए परिवारों के लोगों को करयालग के बाबा बालक नाथ मंदिर की सराय में आश्रय दिया है। जहां पर सात परिवारों के लोग इकट्ठे रह रहे हैं। बेघर हुए परिवारों के पास न जमीन बची है और न मकान। सिर छिपाने का आश्रय खो चुके  इन परिवारों को बसाने के लिए प्रशासन ने कवायद तेज कर दी है, जिसके तहत विभागों की योजनाओं का लाभ सबसे पहले इनको जारी करने के आदेश जारी हो चुके हैं। प्रत्येक परिवार को तीन-तीन बिस्वा भूमि देने के लिए पट्टा पंचायत के बलोह गांव के समीप चिन्हित कर ली है। जमीन का ततीमा व अन्य जरूरी दस्तावेजों की फाइल तैयार करके रेवन्यू सेक्रेटरी हिमाचल प्रदेश के पास भेज दी है। चिन्हित जमीन  आपदा पीडि़त परिवारों के नाम ट्रांसफर की जाएगी, जिसके बाद बेघर परिवारों के नाम जमीन कर दी जाएगी। आपदा से पीडि़त परिवारों के आवास बनाने के लिए मदद करने को घुमारवीं के विधायक राजेंद्र गर्ग ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के समक्ष मांग रखी, जिसके बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कठलग और कुठाकर के पीडि़त बेघर परिवारों को मकान बनाने के लिए 14 लाख रुपए की स्वीकृति प्रदान की। इस दौरान विधायक ने पीडि़त तथा प्रभावित परिवारों को कृषि योग्य जमीन देने की भी मांग रखी, जिस पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने विधायक को आश्वस्त किया कि जिन लोगों की जमीन का नुकसान हुआ है। उनके प्रति सरकार सहानुभूति पूर्वक विचार करेगी। बताते चलें कि बीते 18 अगस्त को मूसलाधार बारिश ने जिला बिलासपुर की कसारू पंचायत के कठलग (करयालग) गांव में कहर मचाया था । बारिश से दस मकान, छह गोशालाएं जमींदोज हो गई थीं। बारिश की इस तबाही से सात परिवार बेघर हो गए थे। सात परिवारों के 23 लोगों को रेस्क्यू करके बाहर निकाला, जबकि कई पशु दब गए थे। लैंड स्लाइडिंग से करीब 200 बीघा भूमि चपेट में आई है।