Tuesday, January 21, 2020 11:19 AM

कबीर साहेब आश्रम दान बग्गी में सत्संग

सद्गुरु कबीर साहेब के 501वें अंतर्ध्यान दिवस के मौके पर दीपोत्सव का आयोजन, संत के बताए मार्ग पर चलने की सीख

बग्गी-कबीर साहेब आश्रम दान बग्गी में सद्गुरु कबीर साहेब का 501वां अंतर्ध्यान दिवस के मौके पर दीपोत्सव, सत्संग व भंडारे का आयोजन  किया गया। कार्यक्रम में  कबीर जागु मंदिर डेराबस्सी से पूज्य गुरदेव गुरुदयाल साहेब ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। कार्यक्रम कि अध्यक्षता छतीसगढ़ से पधारे हुए परम संत डा. रोहित साहेब ने की। कार्यक्रम की शुरुआत पूज्य गुरुदेव के द्वारा दीप प्रज्वलित करने के उपरांत की गई। उसके बाद उपस्थित संतों व संगत के द्वारा 501 दीप प्रज्वलित कर कबीर साहेब को श्रद्धा सुमन अर्पित किए। गुरुदयाल साहेब ने कहा कि कबीर साहेब की शिक्षा आज भी प्रासंगिक है। क्योंकि सद्गुरु कबीर साहेब की हर एक साखी मानव जीवन को सार्थक करने के लिए उपयोगी है। कबीर साहेब ने हर जन मानुष झूठे आडंबरों से दूर रहने का संदेश दिया है। कबीर साहेब काशी के लहरतारा तालाब में एक कमल पुष्प पर  अवतरित हुए और मगहर में जब शरीर को छोड़ा तो भी कमल पुष्प बनकर अंतर्ध्यान हो गए। छत्तीसगढ़ से पधारे डा. रोहित साहेब ने कहा कि कबीर साहेब ने दुनिया के भरम को तोड़ा है। कबीर साहेब के अंतर्ध्यान होने के बाद  हिंदुओं ने मंदिर और मुसलमानों ने मंझार बनाया है, जिसका आज भी मगहर में साक्षात प्रमाण है, जहां पर प्रतिदिन श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। इस मौके पर महंत दीनदयाल साहेब व पाठी मणि राम ने भी अपनी वाणी से संगत को निहाल किया। इस अवसर पर गुरुद्वारा कमेटी के प्रधान बुद्धि सिंह बबलू ने आई हुई संगत का आभार व्यक्त किया। इस मौके ओर कबीर मंदिर हराबाग जोगिंद्र नगर, कबीर मंदिर टारना, कबीर मंदिर पुलघराट मंडी और कबीर आश्रम दान बग्गी की संगत ने भाग लिया।