Sunday, March 24, 2019 05:04 PM

कब सुधरेगी पालमपुर में भाजपा

पालमपुर—पालमपुर भाजपा में अब भी सब कुछ ठीक नहीं है। विधानसभा चुनाव में अपने ही उम्मीदवार की हार से भी कोई सबक नहीं सीखा है और अब भी लगातार वही प्रयास कर रहे हैं, जो पार्टी को कमजोर करते हैं। भाजपा  के पदाधिकारी अब भी उस गुट की बैठकों में शामिल हो रहे हैं, जिसने अधिकारिक उम्मीदवार के खिलाफ मैदान संभाला था। दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति इसलिए है कि यह सब कुछ वहां हो रहा है जहां प्रदेश भाजपा के सबसे बड़े नेता शांता कुमार का घर है। हालांकि अपने खास ‘शिष्य‘ प्रवीण कुमार के समर्थकों द्वारा रविवार को आयोजित की गई बैठक और उसमें पूर्व विधायक प्रवीण कुमार के लिए लोकसभा टिकट की पैरवी करने का तरीका ‘गुरु‘ सांसद शांता कुमार को रास नहीं आया है। बकौल शांता कुमार इन समाचारों को देखकर वह आहत हुए हैं। गौर रहे कि इस समय भाजपा से किनारे पर चल रहे पालमपुर के पूर्व विधायक प्रवीण कुमार के समर्थकों ने रविवार को पार्टी के संस्थापक सदस्यों में शुमार रहे धर्मपाल चतर्थ की अगवाई में एक बैठक का आयोजन किया था। बैठक में एकमत से यह निर्णय लिया गया था कि शांता कुमार चुनाव मैदान में उतरते हैं तो टीम उनका पूरा समर्थन करेगी वहीं यदि शांता कुमार इस बार चुनावी समर से दूरी बनाते हैं, तो प्रवीण के समर्थक अपने नेता को चुनाव मैदान में उतारने पर विचार करेंगे। हैरानीजनक तौर पर पालमपुर भाजपा के कुछ पदाधिकारी भी प्रवीण समर्थकों की बैठक में उपस्थित थे।  शांता कुमार के अनुसार देश व प्रदेश में भाजपा के शानदार प्रदर्शन के बीच विस चुनावों में पालमपुर से भाजपा की हार उनके लिए व्यक्ति आघात थी। शांता ने कहा कि वह हार के कारणों को लेकर कुछ नहीं कहना चाहते लेकिन उन्हें लगता है कि उनके साथ अन्याय हुआ है। शांता कुमार ने प्रवीन समर्थकों की बैठक के बाद धर्मपाल चतरथ से मुलाकात की है जहां प्रवीण कुमार को भी बुलाया गया था। शांता कुमार ने इस विषय में विस्तार से बाच कर अपना गिला प्रकट किया है।

शांता ने माना पालमपुर भाजपा में सब ठीक नहीं

संासद शांता कुमार ने माना कि इस समय पालमपुर भाजपा में सब ठीक नहीं है। शांता कुमार चुनाव न लड़ने की इच्छा प्रकट कर चुके हैं और उनके अनुसार उनसे इस संबंध में कुछ न कहने को कहा गया है क्योंकि अंतिम निर्णय पार्टी ने करना है।