Saturday, July 04, 2020 11:35 AM

कम खरीद रहे लोग, कारोबार का भट्ठा बैठा

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस कोविड-19 के कारण लगे लॉकडाउन से बाजारों में दुकानदारों का धंधा मंदा पड़ गया है। दुकानों को खोलने की इजाजत मिलने के बाद भी बाजार सूना पड़ा है। बसें न चलने के कारण बाजारों में खरीददार कम की पहुंच रहे हैं। लिहाजा दुकानदारों का काम 20 प्रतिशत ही सिमट तक रह गया है। दुकानदार हालात सामान्य होने तथा उनका कामकाज दोबारा पहले की तरह चलने की उम्मीद से आस लगाए बैठे हैं। ग्राहक जरूरी वस्तुओं के अलावा अन्य कोई भी सामान नहीं खरीद रहे हैं। वहीं, जब ‘दिव्य हिमाचल’ ने लोगों से उनकी राय पूछी तो बेवाक होकर यूं रखी अपनी राय ..                                                                      नगर संवाददाता-शिमला

व्यापार पर पड़ा असर

 इंद्रजीत सिंह का कहना है कि शिमला के बाजारों में इन दिनों लोग कम ही खरीददारी के लिए पहुंच रहे हैं। जो ग्राहक पहुंच रहे हैं वे केवल आवश्यक सामान की ही खरीददारी कर रहे हैं। हालांकि सरकार ने दुकाने खोलने का निर्णय तो किया लेकिन दुकानों में जब तक पहले की तरह खरीददारी नहीं होगी। तब तक कारोबारियों को काफी घाटा होने वाला है।

बाजार तक नहीं पहुंच रहे ग्राहक

अश्वनी राणा का कहना है कि शिमला में सरकार ने दुकानें तो खोल दी हैं लेकिन बसे शुरू न होने से दूर से आने वाले लोग बाजारों का रुख नहीं कर रहें हैं। ऐसे में कारोबारियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। अधिकतर दुकानदार तो ऐसे है जिन्होंने अपने कारोबार के लिए बैंक से लोन लिया है। खरीददारी न होने से इन दुकानदारों के लिए लोन की किस्तें चुकाने के लिए भी दिक्कतें आ रही है।

बाजारों में कम हुई रौनक

 श्याम गुप्ता का कहना है कि शिमला में जब से लॉकडाउन और कर्फ्यू लगाया गया है उस समय से लेकर अभी तक बाजारों की रौनक गुम है। हालांकि बाजार  वन-वे कर खोले जा रहे हैं। ताकि बाजारों में आने-जाने वाले लोग सामाजिक दूरी को बनाए रखें। हालांकि दुकानदार स्वयं इस बात का ध्यान रख रहा है कि दुकानों के बाहर भीड़ न हो। लेकिन जब दुकानों के बाहर खरीददारी के लिए ग्राहक गिन चुन कर आएंगे तो इससे नुकसान केवल दुकानदारों को होगा।

कारोबारियों में मंदी का दौर

महेंद्र जीत सिंह का कहना है कि शिमला के बाजारों में इन दिनों केवल वही लोग खरीदारी के लिए आ रहे हैं जिन्हें आवश्यक सामान की जरूरत है। जिस तरह से पहले लोगों को कभी भी बाजार में आ कर नई वस्तु की खरीददारी का क्रेज रहता था। वह अब कम ही देखने को मिल रहा है। इसका असर कारोबार पर पड़ रहा है। कारोबारियों के लिए इन दिनों काफी मंदी का दौर चल रहा है। जहां  न तो खरीददारी हो रही है और न ही ग्राहक दुकानों में पहुंच रहे हैं।

नहीं निकल रहा महीने का खर्च साहिल तनेजा

का कहना है कि इन दिनों शहर के बाजारों में ग्राहक न के बराबर आ रहे हैं। जबकि लॉकडाउन के पहले की बात करें तो बाजारों में ग्राहकों की खूब चहल -पहल दिखती थी। लेकिन अब ऐसा नहीं है इसका असर खरीददारी पर भी पड़ा है। अब आलम ऐसा हो गया है कि दिन भर बहुत कम लोग दुकानों में आते है ।  ऐसे में दुकानों का सामान नहीं बिक रहा है। ऐसे में दुकानों का बिल और किराया देने में भी दिक्कतें आ रही हैं। खरीददारी नहीं होगी तो महीने का खर्च कैसे चलेगा।

The post कम खरीद रहे लोग, कारोबार का भट्ठा बैठा appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.