Tuesday, September 17, 2019 02:33 PM

कराटे में दक्ष ने जीता सोना, 160 लड़ाकों ने लिया भाग

बिलासपुर -बिलासपुर के किसान भवन में जिला स्तरीय कराटे प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में जिलाभर से करीब 160 प्रतिभागियों ने भाग लिया। जिला कराटे संघ के महासचिव मनोज पटियाल की अध्यक्षता में आयोजित इस प्रतियोगिता का शुभारंभ सदर विधायक सुभाष ठाकुर ने किया। श्री पटियाल ने बताया कि यह प्रतियोगिता दो वर्गों काता एवं कुमिते में करवाई गई। इसमें छात्र कुमिते के छह साल आयु वर्ग में दक्ष ने गोल्ड, हर्ष ने सिल्वर व पुरी व काव्यांश ने ब्रांज मेडल प्राप्त किया। सात साल की आयु में पियूष और लक्ष्य अत्री ने प्रथम व द्वितीय स्थान हासिल किया। आठ साल आयु वर्ग में वैभव प्रथम, सारांश द्वितीय, अभिनव व वेदांत तृतीय स्थान पर रहे। नौ वर्ष आयु वर्ग में शिवांश प्रथम, अर्चित द्वितीय व कार्निक, अरिदंम दास ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। इसी स्पर्धा में गोल्ड मेडल प्राप्त करने वालों में कार्तिक, मृदुल, प्रांजल, कार्तिक, अनिकेत, शिवांशु, शुभम कटवाल, निखिल राणा, आकाश, प्रांशुल, अनुपम मेहता, हर्षित शर्मा, अवकाश शर्मा, निशांत रतवान, सुज्जल रतवान, अभिषेक पठानिया व परमजीत शामिल रहे। जबकि रक्षित, काव्यांश, सार्थक पुंडीर, आरव शर्मा, संकेत, नैतिक, रोहन, निखिल ठाकुर, अक्षित, रजत, आकाश, आर्यन, रितिक शर्मा, कार्तिक, अक्षित, रितिक कौशल ने सिल्वर तथा आदर्श, अर्णव, एकांत, उज्ज्वल, निलाक्ष, पार्थ, आर्यन जसवाल, तुषार सिंह, स्वास्तिक शर्मा, वैभव, हर्षित, भुवनेश ठाकुर, आर्यन, रजुल, तिजिल संधु, हर्ष, दक्ष, रजत, आर्यन डटवालिया, ठाकुर अभिमन्यु, अनुराग, अनुज कश्यप ने ब्रांज मेडल प्राप्त किया। कुमिते वर्ग की छात्रा वर्ग में पांच साल आयु वर्ग में ओलिविया, आरोही(6), वैदिका (7) ने प्रथम, आर्या ने सिल्वर, तम्मना (8) ने प्रथम, रक्षिता ने द्वितीय व मन्नत ने तृतीय, गौरिका शर्मा (9) ने प्रथम, कृति ने द्वितीय, 30 किग्रा भार वर्ग में प्रतिभा ने गोल्ड, गरिमा सिल्वर व जिज्ञासा व लीजा ने ब्रांज, 30 किग्रा से नीचे भार वर्ग में इशान्या गोल्ड, सान्या ने सिल्वर, अराध्या व नैना ने ब्रांज मेडल प्राप्त किया। सिज्जल ने गोल्ड, देव्यांशी महाजन व तमन्ना ने सिल्वर व ब्रांज मेडल प्राप्त किया। प्रांजल, निकिता व जाहन्वी  क्रमश गोल्ड, सिल्वर व ब्रांज मेडल। इस नौके पर नप पूर्व अध्यक्ष आशीष ढिल्लों ने मेधावी बच्चों को मेडल पहनाकर उन्हें सम्मानित किया।