Thursday, July 09, 2020 08:37 PM

कर्ज माफी को किसानों ने बुलंद की आवाज

कुल्लू-अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति के देशव्यापी आह्वान पर कुल्लू व मनाली ब्लॉक में भी विभिन्न स्थानों पर किसानों की मांग को लेकर लॉकडाउन सावधानियों का पालन करते हुए विरोध-प्रदर्शन किए गए। हिमाचल किसान सभा के जिला सचिव होतम सिंह सौंखला ने कहा कि अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति, जिसके बैनर तले राष्ट्रीय स्तर पर 237 किसान संगठन शामिल हैं। मुख्यतः दो मुद्दों किसान की कर्ज मुक्ति तथा सीटू प्लस पचास प्रतिशत के आधार पर न्यूनतम समर्थन मूल्य को देश की शासन व्यवस्था की प्राथमिकता में दर्ज करवाने के संबंध में हिमाचल किसान सभा कुल्लू ने भी स्थानीय मुद्दों को शामिल करते हुए प्रशासन के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा। हिमाचल किसान सभा कुल्लू सचिव होतम सिंह सौंखला ने कहा कि जमीन के मुद्दे पर माननीय उच्च न्यायालय के किसानों के समर्थन में दिए निर्देशानुसार प्रदेश सरकार मुख्यतः लघु एवं  सीमांत किसानों की पांच बीघा तक की भूमि को बिना शुल्क नियमित करे व किसानों को पट्टे जारी करे। जंगली जानवरों विशेषकर बंदरों की समस्या से निजात दिलाने के लिए इन्हें पुनः वर्मिन तो घोषित कर दिया, लेकिन उन्हें कैसे मारा जाएगा तथा किसानों को इस समस्या से कैसे राहत मिलेगी इसकी कोई भी रूपरेखा तैयार नहीं की गई है। इस बारे विभिन्न स्टेट होल्डरों के साथ मिल कर सरकार ठोस योजना बनाए, ताकि किसानों को इस समस्या का स्थायी समाधान मिल पाए। इसके साथ ही प्रदेश में आवारा पशुओं की समस्या का भी सही ढंग से प्रबंधन करतें हुए किसानों को राहत प्रदान करें। आज प्रदेश में सब्जियों का उत्पादन लगभग 16 लाख मीट्रिक टन, जोकि अन्य परंपरागत फसलों तथा फलों के वनस्पति सर्वाधिक है और सब्जी उत्पादन में अधिकांश लघु एवं सीमांत किसान परिवार जुड़े हैं, लेकिन न तो सब्जियों के लिए कोई भंडारण की व्यवस्था सरकार द्वारा की जा रही है तथा न ही फसलों के उचित दाम मिल रहे हैं, आड़ती मनमाने तरीके से दाम देते हैं। कृषि मंडियों के सही प्रकार से नियमन तथा एपीएमसी कानून को सख्ती से लागू करने की जरूरत है। मनरेगा को प्राथमिकता के तौर पर तथा प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए सभी स्थानीय एवं प्रवासी मजदूरों को शामिल करके 200 दिनों का काम तथा 300 रुपए मजदूरी दी जाए। विभागों में खाली पड़े पदों को तुरंत भरना, ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिकता के तौर पर व सार्वजनिक सेवाओं को सुनिश्चित करना तथा स्वास्थ्य सेवाओं का विस्तार करना। कुल्लू में भूतनाथ पुल को ठीक करने की मांग को लेकर किसान सभा ने जिलाधीश तथा लोक निर्माण विभाग के वाहर आंदोलन किए, लेकिन आश्वासन मिलने के वाद अभी तक मरम्मत का कार्य आरंभ नहीं किया गया है, इसे ठीक करने का कार्य शीघ्र शुरू किया जाए।

किसान निधि 18000 रुपए सालाना करने की मांग

किसान सम्मान निधि राशि बढ़ाकर 18000 रुपए वार्षिक करने की मांग को लेकर बुधवार को पूरे जिला व कुल्लू-मनाली ब्लॉक के विभिन्न स्थानों कुल्लू, ग्राहण, बराधा, न्योली, लुगड़भठी, प्रेमगढ़, सेउगी, किंजा, चताणी, बंदल, शारनी, शाट, बंदरोल बाशिंग, सेउबाग, नगर, जाणा, बडाग्रां, शिला आदि  में अपने-अपने घर के आंगन, बाल्कनियों, गलियों, खेतों में दूरी के साथ कतारबद्ध होकर प्रदर्शन किए गए।

The post कर्ज माफी को किसानों ने बुलंद की आवाज appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.