Monday, September 16, 2019 07:31 AM

कांगड़ा में 36 घंटे में 33 करोड़ की तबाही

पहली जुलाई से 17 अगस्त तक 11 जिंदगियां लील गई बरसात, अब तक एक अरब का नुकसान

धर्मशाला -हिमाचल प्रदेश में बरसात ने खूब कोहराम मचा रखा है।  प्रदेश के सबसे बड़े जिला कांगड़ा में अभी तक एक अरब रुपए का नुकसान दर्ज किया जा चुका है, जिसमें करीब 68 करोड़ रुपए का पूरे बरसात सीजन का है, जबकि 33 करोड़ रुपए का नुकसान मात्र पिछले 36 घंटों की भारी बरसात से हो गया है। साथ ही बरसातों ने इस बार 11 लोगों को भी अपने आगोश में लिया है। जिला में इस बार सर्वाधिक नुकसान धौलाधर पर्वत श्रेणी के साथ लगते क्षेत्रों में हुआ है। इसमें जिला की पालमपुर तहसील में बादल भी फटा है। जानकारी के अनुसार पहली जुलाई से  18 अगस्त तक जिला में कुल एक करोड़ 98 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। इसके साथ ही विभिन्न जगहों पर अलग-अलग घटनाओं में 11 लोगों की भी मौत हो चुकी है। उपायुक्त कार्यालय की रिपोर्ट के अनुसार जिला में बरसात के कारण अब तक पांच पक्के घर पूरी तरह क्षतिग्रस्त हुए हैं, जिसमें साढ़े तीन लाख रुपए का नुकसान हुआ है। जबकि 22 कच्चे मकान पूरी तरह क्षतिग्रस्त हुए हैं, जिसमें करीब 21 लाख का नुकसान अंाका गया है। इसके साथ ही दस पक्के मकानों में छह लाख व 80 कच्चे मकानों के कुछेक हिस्सों में नुकसान पहुंचा है इसमें करीब 30 लाख का नुकसान हुआ है। इसके साथ ही जिला में 99 गोशालाएं भी क्षतिग्रस्त हुई हैं, जिसका नुकसान साढ़े 26 लाख रुपए है।  जिला भर में 17 दुकानों को क्षति पहुंची है, जिसमें साढ़े पांच लाख का नुकसान पहुंचा है। बरसात के कारण हुई घटनाओं में पौने तीन लाख रुपए के नुकसान में 15 पशुओं की भी जान गई है।

किस विभाग को कितना नुकसान

आईपीएच को 39 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। पीडब्ल्यूडी को 48 करोड़, बिजली बोर्ड को 36 करोड़, कृषि विभाग को 15 लाख और बागबानी विभाग को 40 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। जिला कांगड़ा में अब तक 253 घटनाएं दर्ज की गई हैं। बरसात के कहर ने पिछले 36 घंटों में जिला सहित प्रदेश में जनजीवन प्रभावित कर दिया है। जिला कांगड़ा में पिछले 36 घंटों की भारी बारिश ने साढ़े 33 करोड़ रुपए का नुकसान कर दिया है।