Monday, July 13, 2020 03:17 AM

कांगड़ा से शिमला तक कोरोना अटैक

49 पहुंचा सबसे बड़े जिला का आंकड़ा

धर्मशाला    -रेड ज़ोन मुबंई से कांगड़ा लौटे लोगों के संक्रमित होने का सिलसिला चौथे दिन भी जारी रहा। शनिवार को भी कांगड़ा में छह नए मामले सामने आए। इनमें पांच मुबंई से, जबकि एक जालंधर से लौटा है। उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने बताया कि मुंबई से लौटे कोरोना संक्रमितों में पालमपुर से एक, लंबागांव से दो, भवारना से एक तथा जयसिंहपुर से एक की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव है। मुबंई से 18 मई को आई विशेष रेलगाड़ी से लौटे इन पांच लोगों को परौर स्थित संस्थागत संगरोध केंद्र में रखा गया था, जिनमें चार को कोविड केयर सेंटर बैजनाथ भेज दिया गया है, जबकि 70 वर्षीय बुर्जुग महिला को धर्मशाला भेजा गया है। उपायुक्त ने बताया कि जांलधर से लौटा व्यक्ति टांडा मेडिकल कालेज में दाखिल था। इसलिए उसे वहीं रखा गया है। संक्रमितों में दो महिलाएं और चार पुरुष हैं। ऐसे में अब जिला में कुल मामले 49 हो गए हैं, जबकि सक्रिय मामले 35  हो गए हैं, जबकि अभी तक जिला में 13 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। वहीं एक की मौत हो चुकी है।

कलकत्ता से ऊना लौटा बाराती भी

ऊना। कलकत्ता में मार्च माह में शादी समारोह में गया युवक अब कोरोना पॉज़िटिव निकला है। 24 वर्षीय युवक बंगाणा क्षेत्र का रहने वाला है। रोगी को खड्ड कोविड केयर सेंटर में भेज दिया है। इसके साथ ही जिला ऊना में कोरोना पॉज़िटिव रोगियों की संख्या 20 तक पहुंच गई है। बताया जा रहा है कि बंगाणा क्षेत्र का 24 वर्षीय युवक अपने 17 सदस्सीय परिवारिक दल के साथ कलकत्ता शादी में गया था। 15 मई को ये सभी बस से मैहतपुर प्रवेश बैरियर पर पहुंचे थे। सभी 17 लोगों को बंगाणा के निजी होटल में निगरानी में रखा गया था। बाकी सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

मंडी में और बढ़ी दिक्कतें, एक ही दिन में चार हुए शिकार

मंडी। जिला में कोरोना संक्रमण के चार पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। इनमें तीन मामले जोगिंद्रनगर के और एक सरकाघाट उपमंडल का है। ये सभी मुंबई से मंडी जिला लौटे थे और संस्थागत क्वारंटाइन केंद्रों में रह रहे थे। जोगिंद्रनगर के क्वारंटाइन सेंटर में पॉजिटिव पाए गए तीन लोग फागला गांव के एक ही परिवार से हैं, जिसमें मां, बेटी और बेटा शामिल हैं। हालांकि इस परिवार के मुखिया नेगेटिव निकले हैं। यह परिवार 18 मई को मुंबई से विशेष टे्रन से आया था और उसी दिन से सब जोगिंद्रनगर क्वारंटाइन सेंटर में प्रशासन द्वारा क्वारंटाइन किए गए थे। पॉजिटिव आने के बाद इन तीनों को अब मंडी शहर के साथ ही स्थित आईपीएच विभाग के ट्रेनिंग सेंटर, जिसे कि सरकार ने कोविड केयर सेंटर बनाया है, वहां पर आइसोलेशन में रखा गया है।