Friday, December 13, 2019 07:23 PM

कातिलाना हमले के दोषियों को कठोर कारावास

 विशेष न्यायाधीश चंबा राजेश तोमर ने अलग-अलग धाराओं के तहत सुनाई सजा, पांच-पांच हजार जुर्माना भी ठाेंका

चंबा -विशेष कम जिला एवं सत्र न्यायाधीश चंबा राजेश तोमर की अदालत ने हत्या के प्रयास के मामले में पांच लोगांे को दोषी करार देते हुए भादंस की धारा 307 के तहत पांच वर्ष के कठोर कारावास और बीस हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। अदालत ने दोषियों को भादंसं की धारा 326 के तहत भी दोषी पाते हुए तीन वर्ष की कैद व दस हजार रुपए जुर्माना और भादंसं की धारा 504 व 506 के तहत एक- एक वर्ष की कैद व पांच- पांच हजार रुपए जुर्माने की सजा दी है। उक्त सभी सजाएं एक साथ चलेंगीं। अभियोजन पक्ष की ओर से अदालत में मुकद्मे की पैरवी जिला न्यायवादी विजय रेहालिया ने की। अभियोजन पक्ष के मुताबिक डलहौजी की शैफाली महाजन पत्नी नागेश महाजन ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई थी कि 25 जून 2016 की शाम को वह अपने रेस्टोरेंट की दूसरी ओर मोबाइल पर बातचीत कर रही थी। इसी दौरान सुभाष चौक की ओर से प्रभु सिमरन व साहिब प्रीत सिंह दोनों निवासी मकान 54 अजीत नगर सुल्तानविद अमृतसर, प्रभदीप सिंह निवासी मकान नं 54 अजीत नगर कोट भगत सिंह एमसी वार्ड नं 14 अमृतसर, करण वीर सिंह निवासी कोट शालीग्राम अमृतसर और गुरप्रीत सिंह निवासी चौक रोडी गली कार में सवार होकर आए। इन लोगों ने कार उनके रेस्टोरेंट के समीप खड़ी कर दी। इसी दौरान उसने  हल्ले की आवाज सुनी तो पाया कि यह लोग उसके पति के साथ गाली- गलौज कर मारपीट कर रहे थे। शैफाली महाजन का कहना है कि मारपीट के दौरान एक आरोपी ने कार से तलवार निकालकर उससे वार कर दिया, लेकिन उसके पति किसी तरह खुद को बचाने में कामयाब रहे, मगर आरोपी ने दोबारा से तलवार का वार किया तो उसके पति ने हाथ से रोक लिया। इस दौरान उसके पति के हथेली में गहरी चोट आइर्ं। शैफाली महाजन का कहना है कि उसके पति किसी तरह आरोपियों के चगंुल से छूटकर मौके से भागने में कामयाब रहे। बाद में यह सभी लोग कार में सवार होकर जीपीओ की ओर चले गए। शैफाली महाजन के बयान पर आरोपियों के खिलाफ भादंसं की धारा 307 सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया।

दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद हुआ फैसला

पुलिस ने मामले से जुड़ी कागजी औपचारिकताएं पूर्ण करने के बाद चालान आगामी कार्रवाई हेतु अदालत में दायर कर दिया। अदालत में अभियोजन ने 21 गवाह पेश कर आरोपियों पर लगे आरोप को साबित किया। अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद पांच आरोपियों को पांच वर्ष की कैद व बीस हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है।

डलहौजी की शैफाली ने दर्ज करवाई थी रिपोर्ट

डलहौजी की शैफाली महाजन पत्नी नागेश महाजन ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई थी कि 25 जून 2016 की शाम को वह अपने रेस्टोरेंट की दूसरी ओर मोबाइल पर बातचीत कर रही थी। इस दौरान कुछ लोगों ने उसके पति के साथ गाली- गलौज कर मारपीट की।