Tuesday, August 20, 2019 10:29 AM

कारगिल के सूरमाओं को सैल्यूट

रिकांगपिओ  —जिला मुख्यालय रिकांगपिओ में कारगिल विजय दिवस की 20 वीं वर्षगांठ उपायुक्त  सभागार में मनाया गया। जिस में जिला के शहीद सैनिकों की वीर नारियां, भूतपूर्व सैन्य अधिकारी, कर्मी तथा जिला मुख्यालय के विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे। इस समारोह की अध्यक्षता डा. मेजर अवनिंदर कुमार उपमंडल दंडाधिकारी कल्पा ने की। इस अवसर पर उपमंडल दंडाधिकारी कल्पा, सहायक आयुक्त उपायुक्त किन्नौर,  कागिल युद्ध के शहीद सैनिकों व जम्मू-कश्मीर में अन्य ऑपरेशनों में शहीद हुए जिला के वीर नारियों, भूतपूर्व सैन्य अधिकारियों व कर्मियों ने जांबाज शहीदों की याद में दीप प्रज्जवलित कर वीर शहीदों के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर दो मिनट का मौन रखा। डा. मेजर अवनिंदर कुमार उपमंडल दंडाधिकारी कल्पा ने उपस्थित लोगों को कारगिल शहीदों के बलिदानों को याद करते हुए देश के गौरवमय इतिहास व देश की रक्षा के लिए पूर्ण रूप से समर्पित रहने की शपथ दिलाई।  डा. मेजर अवनिंदर कुमार ने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर देश के वीर शहीदों को नमन करते हुए यह उद्गार व्यक्त किया कि शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,  वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशां होगा। उन्होंने कहा कि आज देश उन महान सपूतों को याद कर रहा है जिन्होंने कारगिल युद्ध के दौरान अपने अदम्य साहस का परिचय देते हुए पाकिस्तान के नापाक मन्सूबों पर पानी फैरते हुए कारगिल में विजय पताका फैहराने के लिए अपने प्राण न्यौछावर किए। उन्होंने कहा कि यह लड़ाई मई से 26 जुलाई, 1999 तक चली थी उसी की स्मृति में इस दिन को कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। उन्होंने कहा कि कारगिल विजय के लिए देश के जिन वीर सैनिकां ने अपने प्राणों की आहूति दी थी, उनके बलिदान को हमें कभी नहीं भूलना चाहिए। उन्होंने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर भारतीय सेना के वीर सैनिकों को जिला प्रशासन किन्नौर की ओर से हार्दिक अभिनंदन व स्वागत किया। उन्होंने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर विशेष रूप से आमंत्रित किए गए जिले के शहीद सैनिकों की वीर नारियों, भूतपूर्व सैन्य अधिकारियों व कर्मियों को सम्मानित गया। इस अवसर पर सहायक आयुक्त उपायुक्त किन्नौर श्री हर्ष अमरेंद्र सिंह, शहीद सैनिकां की वीर नारियां, भूतपूर्व सैन्य अधिकारीध्कर्मी, विभिन्न विभागों के अधिकारी व अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।