Tuesday, November 19, 2019 03:01 AM

किन्नौरी सेब पर बर्फ  की मार

ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी के कारण बागबानों को सताने लगी चिंता,वाहनों की आवाजाही में भी हुई रुकावट

रिकांगपिओ - बीते बुधवार देर रात से ही किन्नौर जिला में रुक-रुक कर हो रही बारिश के बाद गुरुवार सुबह जिला के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी दर्ज की गई। गुरुवार देर शाम समाचार लिखे जाने तक किन्नौर के ऊंचाई वाले आवादी क्षेत्रों में बर्फबारी व निचले क्षेत्रों में बारिश जारी रही। इस दौरान पर्यटन स्थल कल्पा में दो इंच, छितकुल में पांच, रकछम में दो ,नेसंग व असरंग आदि क्षेत्रों में चार-चार इंच दर्ज किया गया। इसी तरह रिकांगपिओ,भावानग ,स्पिलो, पावरी,किल्बा, चोलिंग, टापरी, करछम आदि निचले क्षेत्रो में पूरा दिन बारिश होती रही। बर्फबारी व बारिश से समूचा जिला में ठंड बढ़ गई है। बर्फबारी के चलते छितकुल,नेसंग गांव के लिए वाहनों की आवाजाही में रुकावट पैदा होने की सूचना है। जिला के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी के चलते सेब बागबानों की चिंता भी बढ़ने लगी है। इस समय जिला के ऊंचाई वाले क्षेत्र जैसे रोपा वेली, चांगो, रिब्बा, ठंगी, लिप्पा, पांगी,  सांगला, हंगरंग वेली, रकछम आदि कई क्षेत्रों में सेब अभी भी पेड़ों पर है। यदि बर्फ  अधिक पड़ती है तो सेब पेड़ों को नुकसान भी पहुंच सकता है। किन्नौर के ऊंचे  क्षेत्रों में बर्फबारी के चलते सेब तुड़ान नहीं हो सका। बागबानों को यह भी चिंता सता रही है कि इसी तरह बर्फबारी जारी रहा तो सेब को मंडियों तक पहुंचाने में दिक्कतें पेश न आए। किन्नौर में मौसम के इस बदलाव के बाबाजूद रिकांगपिओ से शिमला व रिकांगपिओ से काजा की ओर यातायात पूरा दिन सुचारू रही।