Monday, July 22, 2019 12:59 PM

किसानों की समस्या का निकला हल..लग गई वेइंग मशीनें

सोलन—तीन जिलों के किसानों के लिए राहत की खबर है। किसानों की सुविधा के दृष्टिगत कृषि उपज एवं मंडी समिति ने गुरुवार को मंडी के मुख्य गेट पर दो इलेक्ट्रॉनिक वेइंग मशीनें स्थापित कर दी है। अब किसान चाहे तो वजन के हिसाब से भी अपना उत्पाद बेच सकता है और आढ़तियों की मनमानी से भी छुटकारा मिल सकता है।  मंडी समिति ने वर्षों से चली आ रही किसानों की इस मांग को आखिर पुरा कर लिया है। जानकारी के अनुसार मंडी समिति ने दो व पांच क्विंटल की दो इलेक्ट्रॉनिक मशीनें मंडी परिसर में स्थापित की है। इससे किसानों को काफी सुविधा मिलेगी। खासतौर पर यह वेइंग मशीनें टमाटर उत्पादकों एवं हिमाचल किसान सभा की मांग पर लगाई गई है। गौर रहे कि बीते कई वर्षों से सोलन की सब्जी मंडी में के्रट के हिसाब से टमाटर की खरीद परोफ्त होती थी। लेकिन हिमाचल किसान सभा दो तीन माह से इस मुद्दे पर पूरी तरह से अड़ी हुई थी। सभा का मानना था कि अन्य मंडियों की तर्ज पर सोलन में भी वजन के हिसाब से टमाटर की बिक्री होनी चाहिए। दूसरी ओर आढ़ती इसे लागू करने के पक्ष में नहीं थे। इनका मत था कि पीक सीजन में हजारों की संख्या में टमाटर के क्रेट प्रतिदिन मंडी में पहुंचते हैं। ऐसे में हर क्रेट का वजन करना नामुमकिन है। इसमें काफी ज्यादा समय भी लग सकता है। आढ़तियों के इस रवैए के बाद हिमाचल किसान सभा मुखर हो गई थी और इन्होंने आगामी माह में तीन जिलों की एक महापंचायत भी सोलन में बुलाने का ऐलान किया है। इसी बीच मंडी समिति ने सारी बात किसानों के ऊपर छोड़ दी है। कृषि उपज एवं मंडी समिति के सचिव प्रकाश कश्यप ने कहा कि किसानों की सुविधा के लिए दो इलेक्ट्रॉनिक वेइंग मशीनें स्थापित की गई है। अब किसान अपनी मनमर्जी से टमाटर बेच सकता है।