Monday, June 01, 2020 02:34 AM

किसानों को घरद्वार पौध संरक्षण की सुविधा

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने समीक्षा बैठक में प्रदेश बागबानी विभाग को दिए निर्देश, नहीं होगी परेशानी

शिमला - हिमाचल के आठ लाख से ज्यादा किसानों के लिए राहत भरी खबर है। कर्फ्यू लगने के बाद भी किसान व बागबानों को नए पौधे खरीदने के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। सरकार घरद्वार पर यह सुविधा किसानों के लिए उपलब्ध करवाएगी। दरअसल सोमवार को कीटनाशकों, फफूंदनाशकों और अन्य पौध संरक्षण सामग्री की उपलब्धता पर समीक्षा बैठक करते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बागबानी विभाग को निर्देश दिए कि बागबानों व किसानों तक इनकी सुचारू आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। किसानों की मांग के अनुरूप सभी प्रकार की पौध संरक्षण सामग्री उन्हें घरों के समीप उपलब्ध करवाई जाए।  उन्होंने कहा कि पड़ोसी राज्यों से मधुमक्खियों के लगभग 20 हजार बक्से मंगवाए जा रहे हैं, जिन्हें मांग के अनुरूप बागबानों को वितरित किया जाएगा। जयराम ठाकुर ने कहा कि बागबानों के लिए गुजरात से 25 लाख वर्ग मीटर एंटी हेलनेट की मांग भी की गई है, जिसे शीघ्र मंगवा लिया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि खुले बाज़ार में थोक और परचून विक्रेताओं के साथ-साथ राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के भंडारों में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति प्रभावी तरीके से सुनिश्चित बनाई जाए। मुख्यमंत्री ने उद्योग विभाग के अधिकारियों को यह सुनिश्चित बनाने के निर्देश दिए कि फार्मास्यूटिकल और खाद्य प्रसंस्करण से जुड़ी औद्योगिक इकाइयां प्रभावी तरीके से कार्य करें, ताकि जीवन रक्षक दवाओं की कोई कमी न हो। जल शक्ति विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि पेयजल आपूर्ति योजनाओं का उचित रख-रखाव किया जाए। बैठक में जल शक्ति और बागबानी मंत्री महेंद्र सिंह, मुख्य सचिव अनिल कुमार खाची, अतिरिक्त मुख्य सचिव मनोज कुमार व आरडी धीमान, प्रधान सचिव प्रबोध सक्सेना आदि शामिल हुए।

राज्य में गेहूं, आटा व दालें उपलब्ध

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में खुले बाज़ार और उचित मूल्य की दुकानों में चावल, गेहूं, आटा, दालों, तेल और चीनी जैसी आवश्यक खाद्य वस्तुओं का पर्याप्त भंडारण है। उन्होंने अधिकारियों को समय रहते मध्य प्रदेश और तेलंगाना सहित अन्य राज्यों से दालों की आपूर्ति करने के समुचित प्रबंध करने के निर्देश दिए।

ट्रक चालक रास्ते में नहीं रहेंगे भूखे

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से आग्रह किया है कि हिमाचल प्रदेश के लिए आवश्यक खाद्य सामग्री लेकर आने वाले ट्रकों के चालकों की सुविधा के लिए राष्ट्रीय उच्च मार्गों पर कुछ ढाबे खोलने की अनुमति प्रदान की जाए।