Wednesday, August 21, 2019 04:14 AM

कुसुम्पटी कांगे्रस में नए अध्यक्ष को कवायद तेज

पार्टी पर्यवेक्षक ने की कार्यकर्ताओं से चर्चा, 15 तक सौंपी जाएगी रिपोर्ट

शिमला -कुसुम्पटी ब्लॉक कांगे्रस में नया अध्यक्ष कौन होगा और किसे कौन सा पद दिया जाना चाहिए, इसे लेकर सोमवार को मंथन किया गया। इस विषय पर पार्टी द्वारा लगाई गई पर्यवेक्षक सोनिया चौहान ने कुसुम्पटी कांग्रेस के पदाधिकारियों व वर्करों से बातचीत की। उन्होंने वर्करों की राय जानी, जिनसे पूछा गया कि वे संगठन को नए सिरे से मजबूत करने के लिए क्या चाहते हैं। गौरतलब है कि कांगे्रस पार्टी वर्करों की राय जानने के बाद ब्लॉक कमेटियों में औहदे बांटेगी। पहली दफा पर्यवेक्षकों के माध्यम से इस तरह की कवायद की जा रही है जबकि इससे पहले नेताओं के कहने पर ब्लाकों में अध्यक्ष लगाए जाते थे और इसके बाद वही आगे अपने पदाधिकारी भी नियुक्त करते थे। अब इस व्यवस्था को संगठन ने बदल दिया है। जो लोग ब्लॉकों में पदाधिकारी होंगे वे आगे जिलों के कार्यकारिणी के बारे में राय देंगे और फिर प्रदेश स्तर पर नई कार्यकारिणी का गठन किया जाएगा। कुसुम्पटी ब्लॉक कांग्रेस कमेटी की सोमवार को बैठक हुई, जिसमें सोनिया चौहान पर्यवेक्षक के रूप में थीं। वहीं, बैठक की अध्यक्षता ब्लॉक अध्यक्ष भूपेंद्र कंवर ने की। उन्होंने बताया कि बैठक में सभी पदाधिकारी मौजूद रहे। यहां सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि संगठन को मजबूत करने के लिए क्षेत्र के विधायक अनिरूद्ध सिंह व संगठन जो निर्णय लेगा वह सभी को मान्य होगा। बैठक में राहुल गांधी को उनके बेहतरीन कार्यों के लिए प्रस्ताव पास कर बधाई दी गई वहीं सोनिया गांधी को दोबारा से कांगे्रस की कमान संभालने पर भी बधाई दी। यहां प्रदेश सरकार की कारगुजारियों को लेकर भी चर्चा की गई और कानून व्यवस्था की बदत्तर स्थिति पर कांगे्रस वर्करों ने सरकार को कोसा। यहां संगठन में नए लोगों को कांगे्रस की विचारधारा से जोड़ने के लिए विशेष अभियान चलाने की बात हुई। वर्करों ने कांग्रेस पर्यवेक्षक को अपनी राय दी जिसपर वह अपनी रिपोर्ट 15 अगस्त तक प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर को देंगी। प्रदेश कांग्रेस को इस दिन तक सभी ब्लाकों से रिपोर्ट मिल जाएगी जिसके लिए पर्यवेक्षकों को समय दिया गया है। प्रदेश भर में अलग-अलग ब्लाक में इस तरह की बैठकों का आयोजन पर्यवेक्षक कर रहे हैं जिसके लिए पार्टी ने 68 पर्यवेक्षकों की नियुक्ति कर रखी है। इनकी रिपोर्ट के आधार पर इसी महीने के अंत तक ब्लाक अध्यक्षों के नामों की घोषणा हो सकती है। इसके बाद जिलों व प्रदेश कार्यकारिणी के गठन की प्रक्रिया को शुरू किया जाएगा।