Monday, August 03, 2020 05:52 PM

कैमिकल का किया बहिष्कार

ऊना-मेडिकल लैबोरेटरी प्रोफेशनलस एसोसिएशन हिमाचल प्रदेश के सदस्यों ने प्रदेशाध्यक्ष सतीश कुमार की अगवाई में एक कंपनी के कैमिकलों का बहिष्कार किया। एसोसिएशन सदस्यों ने लैबों में पड़े कैमिकलों को जलाकर नष्ट किया। प्रदेशाध्यक्ष सतीश कुमार ने कहा कि कंपनी के सीनियर प्रेसिडेंट द्वारा पीजीआई चंडीगढ़ में एपको- 2019 कान्फ्रेंस में प्राइवेट लैबोरेटरियों व लैबोरेटरियों के टेस्ट के दामों को लेकर भद्दी टिप्पणी की। उन्होंने उनके दिए हुए बयान का कड़ा विरोध जताया है। उन्होंने कहा कि तानाशाह कंपनियां अपने फायदे के लिए अनाप-शनाप बयानबाजी करने से बाज नहीं आती। सतीश कुमार ने कहा है कि कंपनी को शायद जमीनी हकीकत नहीं पता। उन्होंने कहा कि कंपनी को पहले धरातल की सच्चाई पता कर लेनी चाहिए। सतीश कुमार ने कहा कि कंपनी किट्स, कमिकल्स व रेपिड कार्ड आदि चार गुना महंगे दामों पर बेच रहे हैं ओर सिर्फ रीजेंट्स, किट्स, कमिकल्स व रेपिड कार्ड खरीद लेने से टेस्ट रिपोर्ट तैयार नहीं हो जाती। बल्कि पहले मरीज का सैंपल लेना पड़ता है। इसके लिए सामान्य सैंपल लेने पर दस से 30 रुपए का खर्च होता है। इसके अलावा लाखों रुपए खर्च कर मशीनें खरीदनी पड़ती हैं, जिससे यह टेस्ट किए जाते हैं। उन्होंने कहा कि इसके अलावा काम करने वाले स्टाफ की सैलरी व बिल्डिंग रेंट, बिजली का बिल, पानी का बिल आदि का खर्च अलग होता है।