Wednesday, August 05, 2020 07:12 PM

कोरोना काल…घर-जमीन बैंकों में रैहन, छिन जाएगा रोजगार

घुमारवीं-कोविड-19 महामारी के कारण लगे लॉकडाउन से बिगड़े हालातों से निजी बस आपरेटरों को रोजगार खत्म होने का भय सताने लगा है। निजी बस आपरेटरों ने प्रदेश मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व परिवहन मंत्री गोबिंद ठाकुर से उनके रोजगार बचाने का आह्वान किया है। निजी बस आपरेटरों के घर व जमीनें बैंकों में रैहन पड़े हैं। अब बैंक वाले भी उन्हें मजबूर करना शुरू कर देंगे। इससे उनकी चिंता अधिक बढ़ गई है। हालत दिन-प्रतिदिन बिगड़ते जा रहे हैं। इस बाबत सोमवार को जिला निजी बस आपरेटर यूनियन की बैठक व्हाट्स ऐप के माध्यम से प्रधान राजेश पटियाल की अध्यक्षता में हुई। ग्रुप के माध्यम से हुई बैठक में करीब 100 बस आपरेटरों ने भाग लेकर सरकार से उनके रोजगार बचाने की गुहार लगाई। निजी बस आपरेटरों ने सरकार से उनके रोजगार को जिंदा रखने के लिए सहयोग करने की गुजारिश की है। सरकार बढ़े ही डीजल के दामों व अन्य खर्चों की समीक्षा करें। इसके बाद किराए में बढ़ोतरी की जाए। तीन किलोमीटर तक मिनीमम किराया दस रुपए किया जाए। क्योंकि किसी भी प्रदेश में मिनीमम किराया 10 से 15 रुपए से कम नहीं है। निजी बस आपरेटरों का कहना है कि सरकार से ये उनकी मांग नहीं है। लेकिन, कोरोना काल में आपरेटरों की दुर्दशा ही ऐसी हो गई है कि खर्चा ज्यादा व कमाई कम है। इसके कारण कुछ बस आपरेटर इस धंधे को छोड़ने पर उतारू हो गये हैं तथा मजबूरन दिहाड़ी व अन्य काम के लिए मन बना लिया है।

करोड़ों रुपए का टैक्स करते हैं अदा

आपरेटर महीने में सरकार को करोड़ों रुपए का टैक्स अदा करते हैं। लेकिन, संकट की इस घड़ी में उनकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। उन्होंने 31 मार्च 2021 तक टैक्स माफ करने तथा निगम के चालक-परिचालकों की तर्ज पर निजी बसों के चालक-परिचालकों का भी बीमा करने की बात कही है। आपरेटरों का कहना है कि ये उनकी मांगें नहीं बल्कि मजबूरी है कि इस हालात में बसें चलाई जाए। आपरेटरों ने प्रदेश सरकार, विपक्ष व लोगों से उनके रोजगार बचाने में सहयोग करने का आह्वान किया।

सोमवार को दौड़ी कुछ निजी बसें

जिला बिलासपुर में सोमवार को कुछ निजी बसें सड़कों पर दौड़ती देखी गई। आपरेटरों का कहना है कि बसों को ट्रायल तौर पर चलाया गया है। यदि इन्कम कम और खर्चा अधिक आया, तो इन्हें दोबारा बंद कर दिया जाएगा। कोरोना काल में हालात इस कदर बिगड़ चुके हैं कि रोजगार खत्म होने के आसार बन गए हैं।

 

The post कोरोना काल… घर-जमीन बैंकों में रैहन, छिन जाएगा रोजगार appeared first on Himachal news - Hindi news - latest Himachal news.