Monday, July 13, 2020 04:48 AM

कोरोना काल में संकटमोचन बने सेवक

परौर सत्संग भवन में क्वारंटाइन लोगों के लिए दिन-रात शिफ्ट में सेवाएं दे रहे सेवादार, दिन में तीन बार परोस रहे खाना

भवारना-अपने निःस्वार्थ सेवा भाव और अनुशासन से परौर के राधा स्वामी सेंटर ने एक ओर जहां लोगों के लिए सेवा भाव की मिसाल पेश की है, वहीं राधास्वामी सत्संग घर परौर जिला कांगड़ा प्रशासन के लिए भी संकटमोचन बन कर सामने आया है। अपने सेवादारों के माध्यम से जिला के सबसे बड़े संस्थागत संगरोध सेंटर बने परौर के राधास्वामी प्रबंधन से सहूलियत देकर प्रशासन की आधी से ज्यादा जिम्मेदारी अपने ऊपर ली है। राधास्वामी परौर में वर्तमान में 100 सेवादार चार-चार दिनों की शिफ्ट में दिन-रात यहां हाथ जोड़ कर सेवा में जुटे हैं, जिसके लिए सेवादारों के अलग-अलग जत्थे बनाकर यहां काम किया जा रहा है। परौर राधा स्वामी  प्रबंधन अपनी ओर से यहां क्वारंटाइन किए गए लोगों को तीन समय के भोजन के साथ चाय-पानी का प्रबंध कर रहा है । इसमें मुख्य भूमिका लंगर बनाने वाले सेवादारों की है, जो तीन समय खाना बना कर इस सब की सेवा कर रहे हैं। वहीं, सिक्योरिटी का एक ग्रुप हर आने-जाने पर अपनी पैनी नजर रखे हुए हैं, जबकि परौर के मुख्य द्वार पर ही आने वाले सेवादारों समेत उनकी गाडि़यों को भी सेनेटाइज किया जा है। परौर के राधा स्वामी सेंटर के सत्संग हाल में एक हजार लोगों को क्वारंटाइन रखने की क्षमता है, जो पूरे जिला कांगड़ा में सबसे बड़ा है ओर इतने ही शौचालय ओर स्नानागार हैं जिस कारण यहां संक्रमण का खतरा कम है। पूरे सत्संग सेंटर परिसर को फायर ब्रिगेड को गाड़ी से दिन में दो-तीन बार सेनेटाइज्ड किया जा रहा है। 60 साल से अधिक उम्र के सेवादारों को यहां सेवा करने की अनुमति नहीं दी जा रही हैं। वहीं हर सेवादार यहां चार दिन की सेवा के बाद ही अपने घर जा रहे हैं। जहां एक ओर राधास्वामी मत के सेवादार हैं, वहीं प्रशासन भी यहां पूरी मुस्तैदी से अपनी ड्यूटी निभा रहा है। पुलिस प्रशासन ने यहां 35 पुलिस कर्मियों को सत्संग शैड के चारों ओर पहरे पर लगाया है, ताकि कोई भी व्यक्ति क्वारंटाइन नियम को तोड़ कर कहीं भाग न जाए।

डिविजनल कमिश्नर ने लिया जायजा

राधा स्वामी सत्संग परौर में  शनिवार को डिविजनल कमिश्नर कांगड़ा संदीप भटनागर ने स्थिति का जायजा लेने के लिए संस्थागत संगरोध सेंटर का दौरा कर प्रबंधों का जायजा लिया। एसडीएम पालमपुर धर्मेश रामोत्रा ने माना कि संकट की घड़ी में बहुत बड़ा सहयोग राधा स्वामी सत्संग परौर की ओर से मिला है। उन्होंने कहा कि  सेवक दिन-रात यहां रखे लोगों के लिए खान-पान इत्यादि की व्यवस्था में लगे हैं। उन्होंने बताया कि सत्संग की ओर से हमेशा हर संभव सहायता के लिए तैयार रहता है।