Saturday, August 15, 2020 01:53 PM

कोरोना का खौफ, नालागढ़ सील

नालागढ़-नालागढ़ में कोरोना के तीन पॉजिटिव मामले आने के बाद उपमंडल प्रशासन ने हरकत में आते हुए नालागढ़ को सील बंद कर दिया है। इसमें मुख्य रूप से नालागढ़ शहर के अलावा नालागढ़ से दभोटा और नालागढ़ से बघेरी का क्षेत्र सीलबंद किया गया है, जबकि नालागढ़ से खेड़ा तक का क्षेत्र भी शामिल है। नालागढ़-रामशहर मार्ग पर लेबर होस्टल में मुस्लिम समुदाय के 88 लोगों को रखा गया था, जिसमें जमात में आए लोग भी शामिल हैं और इनमें से 46 लोगों के सैंपल लेने के बाद रिपोर्ट के तहत तीन लोगों में कोरोना पॉजिटिव पाए गए है। कोरोना पॉजिटिव  मामलों के संज्ञान में आने के बाद प्रशासन ने यह निर्णय लिया है। इस दौरान फार्मा उद्योगों से जुड़े वाहनों और सरकारी सेवाओं के वाहनों की छूट रहेगी। वहीं लोगों को डोर टू डोर आवश्यक वस्तुओं को पहुंचाने वाले मोबाइल वाहन अपनी सेवाएं देंगे, जबकि ड्रोन की मदद से हर प्रकार की गतिविधियों को कैद किया जाएगा। जानकारी के अनुसार कोरोना को लेकर बरती जा रही सावधानियों के बाद अब कोरोना पॉजिटिव  मामले प्रकाश में आने के उपरांत अब प्रशासन द्वारा नालागढ़ को सीलबंद कर दिया है। नालागढ़ शहर सहित आसपास के इलाके को सीलबंद कर दिया गया है। बताया जाता है कि जमात में आए लोगों ने यहां नालागढ़ के अलावा विभिन्न क्षेत्रों में आवागमन किया है और इसके लिए लोगों की पड़ताल की जा रही है और प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से मिले लोगों को क्वारंटीन किया जा रहा है। ऐसे में उपमंडल प्रशासन ने कोरोना से सख्ती से निपटने के लिए अब लोगों पर लगाम लगाते हुए आवाजाही पूरी तरह से बंद कर दी है और नालागढ़ शहर के अलावा नालागढ़ से दभोटा, नालागढ़ से बघेरी व नालागढ़ से खेड़ा तक के आने वाले क्षेत्र को पूरी तरह से सीलबंद कर दिया गया है। जबकि फार्मा व साबुन सेनेटाइजर बनाने वाले उद्योगों के वाहनों व सरकारी सेवाओं वाले वाहनों को छूट रहेगी। लोगों को घर-घर पर आवश्यक वस्तुएं मोबाइल वैन के माध्यम से पहुंचाई जाएगी, वहीं ड्रोन की मदद भी ली जाएगी।