Monday, June 01, 2020 02:32 AM

कोरोना के खिलाफ मिलकर लड़ें

दलाईलामा ने वैश्विक महामारी से भविष्य की चुनौतियों पर लिखा पत्र

धर्मशाला  - धर्मगुरु दलाईलामा ने पत्र जारी कर वैश्विक महामारी कोरोना को लेकर संदेश दिया है। अपने पत्र में दलाईलामा ने लिखा है कि आज हम कोरोना के प्रकोप के कारण एक कठिन दौर से गुजर रहे हैं। उन्होंने अपने पत्र में भविष्य की चुनौतियों का भी जिक्र किया है। इन चुनौतियों का सामना करने के लिए  भारत सरकार सहित दुनिया भर की सरकारों का आभार व्यक्त करते हुए उन्होंने लिखा है कि प्राचीन भारतीय परंपरा समय के साथ दुनिया के निर्माण, पालन और विनाश का वर्णन करती है। इस तरह के विनाश के कारणों में हथियार और बीमारी हैं, जो आज हम अनुभव कर रहे हैं। हालांकि भारी चुनौतियों के बावजूद, मनुष्यों सहित अन्य प्राणियों ने जीवित रहने की उल्लेखनीय क्षमता दिखाई है। अपने पत्र में बौद्ध धर्मगुरु ने कहा कि वर्तमान में हर कोई कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने की पूरी कोशिश कर रहा है। उन्होंने विशेष रूप से भारत की अन्य दक्षेस देशों के साथ आपातकालीन कोष और इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफार्म स्थापित करने के लिए कोविड-19 के प्रसार से निपटने के लिए सूचना, ज्ञान और विशेषज्ञता का आदान-प्रदान करने के लिए पहल की सराहना की है। उनका कहना है कि यह भविष्य में ऐसे संकटों से निपटने के लिए एक मॉडल के रूप में काम करेगा। दलाईलामा का कहना है कि दुनिया भर में लागू किए गए आवश्यक लॉकडाउन के परिणामस्वरूप कई लोगों को कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने डाक्टरों, नर्सों और अन्य सहायक कर्मियों का विशेष आभार व्यक्त किया है, जो व्यक्तिगत जोखिम पर जीवन बचाने के लिए अग्रिम पंक्ति में काम कर रहे हैं। दलाईलामा ने कहा कि वह इस महामारी के जल्द अंत की प्रार्थना करते हैं, ताकि देश-दुनिया में शांति और खुशी जल्द बहाल हो सके।