Tuesday, March 31, 2020 12:16 PM

कोरोना लॉकडाउन ने रोका धरना

वायरस के खतरे के बीच धरने पर डटे प्रदर्शनकारी हटे पीछे

भुंतर-खतरनाक कोरोना संक्रमण के चलते घोषित लॉकडाउन ने जिला कुल्लू के भुंतर के साथ लगे शाढ़ाबाई में स्थित प्रदेश पावर निगम के कार्यालय के बाहर धरने पर डटे सैंज प्रोजेक्ट के ठेकेदारों के धरने को बंद करवा दिया है। आंदोलनकारियों ने कोरोना के खतरे को देखते हुए धरने पर रोक लगा दी है। हालांकि एचपीसीएल और हिंदोस्तान कंस्ट्रक्शन कंपनी प्रबंधन की ओर से मिले आश्वासन के चलते भी आंदोलनकारियों ने नरमी बरती है और फैसला वापिस लिया है। सैंज हाइड्रो प्रोजेक्ट लोकल कांट्रैक्टर्ज एंड लैंड लीज होल्डर्ज यूनियन के उपाध्यक्ष मोहर सिंह ने बताया कि परियोजना का निर्माण करने वाली हिंदोस्तान कंस्ट्रक्शन कंपनी के परियोजना प्रबंधक पुरुषोत्तम पटेल ने मसले को हल करने का आश्वासन दिया है और कहा है कि यूनियन से बात करने के लिए कंपनी प्रबंधन यहां आने को तैयार है लेकिन हिमाचल सहित महाराष्ट्र में लॉकडाउन के कारण अभी आवागमन संभव नहीं है। उन्होंने आश्वासन दिया कि यूनियन की मांगों को मुख्य कार्यालय में रखने के साथ एचपीसीएल के साथ भी रखी जाएगी और इसे हल किया जाएगा। बता दें कि प्रदेश पावर निगम की सैंज परियोजना के निर्माण के दौरान स्थानीय ठेकेदारों व जमीन मालिकों को उनके काम का पैसा तीन सालों के बाद भी नहीं मिला है। परियोजना में उत्पादन भी शुरू हो गया है लेकिन ठेकेदारों ने बैंक से कर्जा उठाकर मजदूरों का भुगतान तो कर दिया है लेकिन अब बैंक को कर्जा वापस लौटाने की स्थिति में नहीं है। बताया जा रहा है कि परियोजना निर्माण कार्य करने वाली प्रदेश पावर निगम की ठेकेदार हिंदोस्तान कंपनी ने स्थानीय लोगों को प्राथमिकता के आधार पर निर्माण कार्य करने का अवसर दिया था। कंपनी द्वारा अदायगी न करने पर लोगों की मांग पर इस मामले को लेकर प्रदेश पावर निगम को हस्तक्षेप करना पड़ा लेकिन इसके बावजूद कंपनी ने ठेकेदारों का पैसा नही दिया। प्रभावित ठेकेदारों रघुवीर सिंह, नारायण सिंह, भूमा ठाकुर, राम लाल, राजकुमार, मोहर सिंह, राजेश कुमार, गोपाल शर्मा आदि का कहना है कि 12 मार्च से उक्त धरना चल रहा था। उन्होंने कहा कि कोरोना के कारण सरकार द्वारा लिए गए फैसले के कारण इसे रोका गया है और जल्द ही अगर उनकी मांगों को पूरा नहीं किया गया तो कोरोना का खतरा कम होने के बार फिर से आंदोलन आरंभ होगा।